पीरियड्स के 7 दिन पहले महिलाओं को होती है ये प्रॉब्लम, आप भी जानें इसका कारण

आज हम आपको बताने वाले हैं कि पिरियड्स के 7 दिन पहले महिलाओं में होने वाली प्रॉब्लम के बारे में। महिलाओं की बॉडी में बढ़ती उम्र के साथ-साथ कई तरह के हॉर्मोनल चेंजेस भी होते हैं। इसके कारण प्रीमेन्सचुरेशन सिन्ड्रोम (PMS) की प्रॉब्लम बढ़ जाती है। मेयो क्लीनिक की रिसर्च में यह साबित हुआ है
 
पीरियड्स के 7 दिन पहले महिलाओं को होती है ये प्रॉब्लम, आप भी जानें इसका कारण

आज हम आपको बताने वाले हैं कि पिरियड्स के 7 दिन पहले महिलाओं में होने वाली प्रॉब्लम के बारे में। महिलाओं की बॉडी में बढ़ती उम्र के साथ-साथ कई तरह के हॉर्मोनल चेंजेस भी होते हैं।

इसके कारण प्रीमेन्सचुरेशन सिन्ड्रोम (PMS) की प्रॉब्लम बढ़ जाती है। मेयो क्लीनिक की रिसर्च में यह साबित हुआ है कि 75% यंग वूमन्स इस प्रॉब्लम को फेस करती हैं।

बॉम्बे हॉस्पिटल की गायनोकोलॉजिस्ट डॉ. नीरजा पौराणिक का कहना है कि लड़कियों और महिलाओं में पीरियड्स के एक या दो हफ्ते पहले हॉर्मोनल चेंजेस होते हैं।

इस दौरान होने वाली हेल्थ प्रॉब्लम को प्रीमेन्सचुरेशन सिन्ड्रोम (PMS) कहते हैं। हॉर्मोनल चेंजेस के अलावा PMS के और भी कई कारण होते हैं।

ऐसा होने से महिलाओं की बॉडी पर कई तरह के संकेत नजर आने लगते हैं। लेकिन अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए तो PMS की प्रॉब्लम को दूर किया जा सकता है।

यहां डॉ. नीरजा बता रही हैं PMS के कुछ कारण, इसके संकेत और इससे बचने के तरीकों के बारे में।

क्यों होता है PMS?

बढ़ती उम्र के साथ होने वाले हॉर्मोनल चेंजेस, विटामिन और मिनरल्स की कमी, सॉल्टी फूड खाने, ज्यादा शराब या कैफीन लेने के कारण होता है।

साथ ही 20 से 40 साल तक की लड़कियों और महिलाओं में हॉर्मोन चेंजेस, बच्चा पैदा होने के बाद या फैमिल हिस्ट्री के कारण हो सकता है।

PMS का क्या है ट्रीटमेंट?

रोज 30 मिनट एक्सरसाइज करने, डाइट में फल, हरी सब्जियां और साबुत अनाज शामिल करने, कम से कम 7 घंटे की नींद लेने

या डॉक्टरी ट्रीटमेंट लेने से इस प्रॉब्लम को कंट्रोल किया जा सकता है।

PMS के संकेत

पेट और पैरों में ऐंठन होना।
बैक पेन होना।
डिप्रेशन की प्रॉब्लम होना।

From Around the web