घर में भगवान के फोटो या मूर्ति क्यों रखी जाती हैं?

भगवान के चित्र हर घर में पाए जाते हैं। घर में किसी भी धर्म का चिन्ह होना सभी धर्मों में शुभ माना गया है। हिन्दुओं के घरों में देवी-देवताओं की, मुसलमानों के घरों में मक्का-मदीना की, सिखों के घरों में वाहेगुरु की और ईसाई परिवारों में ईसा की प्रतिमा मिलती है। क्या आपने कभी सोचा
 
घर में भगवान के फोटो या मूर्ति क्यों रखी जाती हैं?

भगवान के चित्र हर घर में पाए जाते हैं। घर में किसी भी धर्म का चिन्ह होना सभी धर्मों में शुभ माना गया है। हिन्दुओं के घरों में देवी-देवताओं की, मुसलमानों के घरों में मक्का-मदीना की, सिखों के घरों में वाहेगुरु की और ईसाई परिवारों में ईसा की प्रतिमा मिलती है। क्या आपने कभी सोचा है कि घर में भगवान की मूर्तियां क्यों रखी जाती हैं?

इसके पीछे मनोवैज्ञानिक कारण है। घर में भगवान की मूर्ति रखने और नियमित रूप से उनकी पूजा करने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में छोटे-छोटे बदलाव करके आप मन की शांति प्राप्त कर सकते हैं।

चित्र या मूर्ति आमतौर पर घर में रखी जाती है, लेकिन उन्हें सही दिशा में रखना फायदेमंद हो सकता है। सही दिशा में रखी कोई मूर्ति या तस्वीर आपको लगातार इस बात का अहसास कराती है कि घर में भगवान का वास है। अनजाने में तस्वीरें भी आपको आत्मविश्वास देती हैं। घर में भगवान की मूर्ति आपको गलत काम करने से रोकती है।

From Around the web