शरीर में यूरिक एसिड लेवल को कम करते हैं ये उपाय, जल्दी जानिए

हमारे शरीर में जब प्यूरीन टूटता है तो एक पदार्थ बनता है जिसे हम यूरिक एसिड कहते हैं। यह पदार्थ रक्त के जरिए बहता हुआ हमारी किडनी तक पहुंचता है। लेकिन, कई बार ऐसा भी होता है कि ये शरीर में ही रह जाता है और इसकी मात्रा भी बढ़ने लगती है जो शरीर के
 
शरीर में यूरिक एसिड लेवल को कम करते हैं ये उपाय, जल्दी जानिए

हमारे शरीर में जब प्यूरीन टूटता है तो एक पदार्थ बनता है जिसे हम यूरिक एसिड कहते हैं। यह पदार्थ रक्त के जरिए बहता हुआ हमारी किडनी तक पहुंचता है। लेकिन, कई बार ऐसा भी होता है कि ये शरीर में ही रह जाता है और इसकी मात्रा भी बढ़ने लगती है जो शरीर के लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। अगर शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाए तो इससे आप गठिया जैसी बीमारी के शिकार हो सकते हैं। आज हम आपको शरीर से यूरिक एसिड कम करने के उपाय आपको बताने जा रहे हैं।

सेब का सिरका

सेब का सिरका एक प्राकर्तिक क्लींजर है जो शरीर में से जहरीले पदार्थ जैसे यूरिक एसिड को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है। सेब का सिरका रक्त के पीएच लेवल को बढ़ा देता है और यूरिक एसिड को कम करने में मदद करता है। लेकिन, एक बात का ध्यान रखें कि सेब का सिरका कच्चा और बिना पानी मिला हुआ होना चाहिए। यूरिक एसिड का स्तर कम करने के लिए रोजाना एक ग्लास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका डालकर दिन में 2 से 3 बार सेवन करें।

ब्लैक चेरी

ब्लैक चेरी या इसका जूस शरीर से यूरिक एसिड को कम करने का काफी अच्छा इलाज है। ब्लैक चेरी यूरिक एसिड के सीरम स्तर को कम कर किडनी और जोड़ों से क्रिस्टल को दूर करने में मदद करती है। इसके साथ ही ब्लैक चेरी में एंटी-ऑक्सीडेंट्स गुण मोजूद होते हैं जो यूरिक एसिड को कम करने में कारगर साबित होते हैं।

नींबू पानी है फायदेमंद

नींबू पानी यूरिक एसिड की वजह से होने वाली गठिया की बीमारी को दूर करने में मददगार है। नींबू विटामिन सी का काफी अच्छा स्रोत भी है जो जोड़ों के आस-पास मोजूद ऊतकों को मजबूत करता है और इसके साथ ही यूरिक एसिड क्रिस्टल से होने वाले नुक्सान को कम करता है। नींबू में सिट्रिक एसिड भी मोजूद होता है जो क्रिस्टल को खत्म करता है और सीरम यूरिक एसिड को कम करता है।

ओलिव ऑइल

शरीर में यूरिक एसिड को कम करने के लिए अन्य वेजिटेबल ऑइल की जगह ओलिव ऑइल का इस्तेमाल करें। ओलिव में खाना गर्म करने के बाद भी पोषक तत्व बाकी रहते हैं। इसके साथ ही ओलिव ऑइल में विटामिन ई, एंटी-ऑक्सीडेंट्स और एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण मोजूद होते हैं जो हमें फायदा पहुंचाते हैं।

From Around the web