वास्तु टिप्स 2021: आपकी सफलता का राज घर के इस कोने में छिपा है, अभी जाने

वास्तु टिप्स 2021: घर के चार कोनों को वास्तु शास्त्र में वर्णित किया गया है। यदि घर के चारों कोनों को उनकी प्रकृति के अनुसार व्यवस्थित किया जाता है तो घर में शांति और शांति बनी रहती है। वास्तु शास्त्र में वर्णित चार कोणों में शामिल हैं – उत्तर और पूर्व दिशाएँ अर्थात् उत्तर पूर्व,
 
वास्तु टिप्स 2021: आपकी सफलता का राज घर के इस कोने में छिपा है, अभी जाने

वास्तु टिप्स 2021: घर के चार कोनों को वास्तु शास्त्र में वर्णित किया गया है। यदि घर के चारों कोनों को उनकी प्रकृति के अनुसार व्यवस्थित किया जाता है तो घर में शांति और शांति बनी रहती है। वास्तु शास्त्र में वर्णित चार कोणों में शामिल हैं – उत्तर और पूर्व दिशाएँ अर्थात् उत्तर पूर्व, उत्तर और पश्चिम दिशाएँ – पश्चिम कोने, पश्चिम और दक्षिण दिशा – उत्तर-पश्चिम कोण, दक्षिण और पूर्व दिशा – अग्निरोधक कोण। हम आज आपको उस एंगल के बारे में बताएंगे जिसका हमारे करियर पर सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है।

उत्तर पूर्व को बहुत पवित्र माना जाता है।

उत्तर-पूर्व कोण उत्तर और पूर्व दिशा का संयोजन है। यह सूर्योदय की दिशा है। इस कोने को बहुत पवित्र माना जाता है। इसलिए इसे हमेशा साफ रखना चाहिए।

भगवान शिव ईशान के देवता हैं

भगवान शिव को ईशान का देवता माना जाता है। भगवान शिव हिमालय पर्वत पर रहते हैं और उत्तर में स्थित हैं। ईशान कोन ध्यान के लिए बहुत अच्छा माना जाता है क्योंकि भगवान शिव भी हमेशा ध्यान में डूबे रहते हैं।

करियर के लिहाज से ईशान महत्वपूर्ण है करियर के लिहाज से ईशान कोण बहुत महत्वपूर्ण है। घर के सदस्यों का करियर पूर्वोत्तर से कैसे संबंधित होगा। यदि आप अपने करियर में प्रगति करना चाहते हैं, तो इस कोण को साफ और खुला रखें। इस कोने में लक्ष्मी और गणेश की मूर्तियां स्थापित करें और शाम को उनकी पूजा करें। इस कोने के कार्यालय में एक बैठक कक्ष या सम्मेलन कक्ष बनाएं और दुकान में इस कोने में एक मंदिर भी स्थापित करें।

From Around the web