अपने बच्चों और स्मार्टफोन में रखें उचित दूरी, नहीं तो परिणाम बुरे होंगे

आप भी अगर अपने बच्चों को स्वस्थ और खुशहाल देखना चाहते हैं तो आइए जानिए छोटे बच्चों पर स्मार्टफोन का विपरित प्रभाव और उन्हें इनकी जद में आने से बचाइए आपके बच्चे अगर मोबाइल टीवी या इंटरनेट पर हद से ज्यादा समय बिता रहे हैं तो सावधान हो जाएं तमाम दिग्गजों का कहना है कि
 
अपने बच्चों और स्मार्टफोन में रखें उचित दूरी, नहीं तो परिणाम बुरे होंगे

आप भी अगर अपने बच्चों को स्वस्थ और खुशहाल देखना चाहते हैं तो आइए जानिए छोटे बच्चों पर स्मार्टफोन का विपरित प्रभाव और उन्हें इनकी जद में आने से बचाइए

आपके बच्चे अगर मोबाइल टीवी या इंटरनेट पर हद से ज्यादा समय बिता रहे हैं तो सावधान हो जाएं तमाम दिग्गजों का कहना है कि बच्चों को इन डिजिटल गेजेट्स से जितना दूर रखें बेहतर है। ऐसी सलाह देने वालों में भारत में ऑनलाइन कारोबार करने वाली कई नामी ग्रामी टेक्नोलॉजी के दिग्गज भी शामिल हैं।

आइए जानते हैं कुछ दिग्गजों का नजरिया:

सबसे अमीर शख्स में शुमार बिल गेट्स ने बच्चों को 14 साल की उम्र तक मोबाइल नहीं दिया था।
दुनिया को आईफोन, आईपैड देने वाले स्टीव जॉब्स ने अपने बच्चों को इनसे दूर ही रखा।

ये बताते हैं कि वे खुद अपने बच्चों को इनसे दूर रखते हैं और इंटरनेटपर ज्यादा समय बिताने की छूट नहीं देते। स्नैपडील के को-फाउंडर कुनाल बहल की तीन साल की बेटी तमीरा जब मोबाइल पर ज्यादा समय बिताने लगी तो उन्होंने बेटी से फोन छीन लिया। अब वह किताबें पढ़ती है और इससे उसकी सीखने की ललक और क्षमता दोनों बढ़ी है।

सिलिकन वैली में बच्चों को नॉन-टेक्नो स्कूलों में भेजने का ट्रेंड बढ़ा है

कई तरह के नुकसान:

फोन पर ज्यादा गाना सुनने, ज्यादा विडियो देखने वाले बच्चे दूर से बोलना शुरू करते हैं।
अटेंशन कम होता है, आंखें ड्राई होती हैं, सीखने की ललक घटती है और मोटापा बढ़ता है।

आपको क्या करना चाहिए:

सोते समय फोन, टैब को दूर रखें। साधारण अलार्म घड़ी इस्तेमाल करें।
हफते में एक दिन या एक दिन में कुछ घंटे आप हर गैजेट से दूर रहें।
ड्राई आई से बचने के लिए हर 5 सेकंंड में पलक झपकाएं।

From Around the web