दोस्त बनने में देर नहीं लगती, लेकिन सच्चा दोस्त बनने में वक्त लगता है!

अगर किसी को लगता है कि नजदीकी व्यक्ति मित्र है। क्या कोई और बिना दोस्त के मन की भावनाओं को समझ पाएगा? कोई समझ भी ले तो क्या उसका दोस्त होना जरूरी नहीं है? हर किसी के लिए यह सोचना स्वाभाविक है कि आपको दोस्त बनना चाहिए। लेकिन दोस्त बनाते समय आपको पहले दोस्त बनना
 
दोस्त बनने में देर नहीं लगती, लेकिन सच्चा दोस्त बनने में वक्त लगता है!

अगर किसी को लगता है कि नजदीकी व्यक्ति मित्र है। क्या कोई और बिना दोस्त के मन की भावनाओं को समझ पाएगा? कोई समझ भी ले तो क्या उसका दोस्त होना जरूरी नहीं है? हर किसी के लिए यह सोचना स्वाभाविक है कि आपको दोस्त बनना चाहिए।

लेकिन दोस्त बनाते समय आपको पहले दोस्त बनना होगा। किसी अजनबी से दोस्ती करने के लिए जरूरत है खुद पर विश्वास करने की, जात-पात के बंधनों को तोड़ने की, शक के काले पर्दे को किनारे करने की, बड़ा दिल रखने वाला, संवेदनशील दिमाग रखने वाला, दूसरों को ठीक से समझने की।

दोस्त बनने में देर नहीं लगती, लेकिन सच्चा दोस्त बनने में वक्त लगता है! दोस्ती दो अजनबियों द्वारा बनाई गई धुन है! और एक सच्चा दोस्त अपरिचित धुनों से बना एक मधुर गीत है! मित्रता तो परिचितों से मिलती है, पर जो “मनुष्य” परिचित होने के बाद बनता है, वह व्यक्ति के करीब आता है और उसके सुख-दुःख में शामिल हो जाता है, वही सच्चा मित्र और सच्ची मित्रता है!

सच्चे दोस्त वो शिल्पकार होते हैं जो दिल की ढहती दीवारों पर नई इकाइयाँ बनाते हैं। रंग जो उम्मीद के नए रंग देते हैं। एक दोस्त के जीवन को भर देने वाले प्रेरक भजन। किसी मित्र को गलत रास्ते पर जाने से रोकना, अवसर में बाधा डालना, मित्र की प्रशंसा करना! इस मित्र के कितने रूप हैं? मित्र का सबसे बड़ा उदाहरण कर्ण है। एक मित्र के लिए कर्ण का बलिदान, वह एक असहाय व्यक्ति है जो मित्र के लिए जो कुछ भी करता है वह करता है।

दुर्योधन जैसा मित्र जो बुराई के मार्ग पर चलकर भी उसे अंत तक नहीं छोड़ता, एक वफादार कान जो उसे धोखा नहीं देता। यह इतिहास में एक अमर विकर्ण है। इस प्रदूषित दुनिया में गंगा जल के समान पवित्र मित्र की सख्त जरूरत है, जो मित्रों के बीच ठहराव को दूर करे, जिसकी जरूरत है, जो मोम से भी नरम और हीरे से भी सख्त हो।

मुझे लगता है कि एक सच्चा दोस्त उस आदमी में रहता है जो दुनिया को अपने दोस्त के सुख-दुख के रूप में सोचता है, जो दुनिया के लिए केवल उसके लिए प्रयास करता है, जिसके पास ज्ञान है, जो इसे अपने दोस्तों को देता है, जो इसे आर्थिक रूप से बनाता है जो उसकी आर्थिक मदद करता है..

आज के बेरोज़गारी के दौर में एक दोस्त श्रीकृष्ण की ज़रूरत है, जो अपनी एक ‘काटी हुई चाय’ से उसका हाल जान लेता है और उसकी मदद करता है, भले ही दोस्ती की खातिर उसके पास उच्च स्तर की दोस्ती न हो। ऐसे ‘मित्र श्रीकृष्ण’ से मित्र के रूप में मिलने के लिए स्वयं सुदामा और कृष्ण-सुदामा जैसी अविभाज्य मित्रता होनी चाहिए। बस इतना ही।

From Around the web