अगर इन अक्षरों से शुरू होता हैं आपका नाम तो हमेशा चमकता रहेगा आपका भाग्य

आज हम आपको ऐसे अक्षरों के बारे में बताने जा रहे हैं तो आप बहुत भाग्यशाली हैं। यदि नाम इन अक्षरों से शुरू होता है तो आपकी किस्मत चमक जाएगीचंद्र राशि के अनुसार सभी 12 राशियों के लिए अलग-अलग नाम दिए गए हैं। व्यक्ति के जन्म के समय चंद्र जिस राशि में रहता है वह
 
अगर इन अक्षरों से शुरू होता हैं आपका नाम तो हमेशा चमकता रहेगा आपका भाग्य

आज हम आपको ऐसे अक्षरों के बारे में बताने जा रहे हैं तो आप बहुत भाग्यशाली हैं। यदि नाम इन अक्षरों से शुरू होता है तो आपकी किस्मत चमक जाएगीचंद्र राशि के अनुसार सभी 12 राशियों के लिए अलग-अलग नाम दिए गए हैं। व्यक्ति के जन्म के समय चंद्र जिस राशि में रहता है वह उस व्यक्ति का नाम होता है। इसे चंद्र चिन्ह भी कहा जाता है। नाम का पहला अक्षर व्यक्ति की राशि को प्रकट करता है यह भविष्य और प्रकृति के बारे में जानकारी देता है। लेकिन कुछ राशियाँ ऐसी हैं जो दूसरों की तुलना में अधिक शक्तिशाली और भाग्यशाली हैं।

मेष राशि (नाम अक्षर- चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, ए)

मंगल इस राशि का स्वामी है। मंगल ग्रहों का सेनापति है। यही कारण है कि मेष राशि के लोगों में नेतृत्व करने की अद्भुत क्षमता होती है। जिसके कारण ये व्यक्ति अन्य राशियों की तुलना में अधिक भाग्यशाली रहती हैं। मंगल उनकी हमेशा सहयता करता है। ये लोग कड़ी मेहनत भी बहुत करते हैं जिसके हर कार्य में सफल होते हैं और भाग्यवान कहलाते हैं।

वृश्चिक राशि (नाम अक्षर- तो, ​​ना, नी, नू, ने, नो, ये, यी, यू)

मेष राशि की तरह ही वृश्चिक राशि का स्वामी भी मंगल है। मंगल के कारण यह राशि साहसी होती है। इस राशि के लोग किसी भी काम में जोखिम लेने से बिलकुल नहीं घबराते हैं। और अपना काम एक दम पूरी बफादारी से करते हैं। अपने परिश्रम से वे अन्य राशियों की तुलना में सबसे अधिक भाग्यवान होते हैं। ये लोग योजना बनाने में बहुत माहिर होते हैं। और अपनी हर योजना को सफलता पूर्वक पूरा करते हैं।

मकर (नाम अक्षर – भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)

ग्रहों में शनि सबसे अलग स्थान है। वह ग्रहों के न्यायाधीश हैं। मकर राशि का स्वामी शनि है। इसके कारण मकर राशि के जातकों पर शनिदेव की विशेष कृपा होती है। इन राशि के लोगो में बहुत विश्वास होता हैं। शनि उन्हें हर कार्य में में सफलता प्रदान करते है। कठिन परिश्रम के बल पर हर काम में सफलता हासिल करते हैं।

कुंभ राशि (नाम अक्षर – गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)

यह राशि चक्र की ग्यारहवीं राशि है। इसका स्वामी भी शनि है। शनि को कर्मों का दाता कहा जाता है अर्थात यह ग्रह हमारे कार्यों के अनुसार फल प्रदान करते है। यदि कुंभ राशि के लोग ईमानदारी के साथ काम करते हैं तो शनि पूरी तरह से समर्थित है और अपने कार्य क्षेत्र में एक उच्च शिखर पर पहुंच जाते है। कुंभ राशि के लोग अधिक सोचते हैं और सही तरीके से योजना बनाते हैं। वे बुद्धिमान हैं और स्थिति को बहुत जल्दी समझते हैं। इसके कारण अन्य राशियाँ अधिक शक्तिशाली बनकर उभरती हैं।

From Around the web