रक्षाबंधन के दिन 474 साल बाद बना राखी पर गज केसरी योग, इन राशियों को होगा फायदा

नई दिल्ली: रक्षा बंधन पर्व 2021 इस साल 22 अगस्त रविवार को मनाया जाएगा। इस वर्ष यह पर्व श्रावण पूर्णिमा के धनिष्ठा नक्षत्र के साथ मनाया जाएगा। शोभन योग भी इस पर्व को खास बना रहा है. ज्योतिषियों का कहना है कि इस बार रक्षाबंधन भी शानदार योग के दौर से गुजर रहा है। ज्योतिषियों
 
रक्षाबंधन के दिन 474 साल बाद बना राखी पर गज केसरी योग, इन राशियों को होगा फायदा

नई दिल्ली: रक्षा बंधन पर्व 2021 इस साल 22 अगस्त रविवार को मनाया जाएगा। इस वर्ष यह पर्व श्रावण पूर्णिमा के धनिष्ठा नक्षत्र के साथ मनाया जाएगा। शोभन योग भी इस पर्व को खास बना रहा है. ज्योतिषियों का कहना है कि इस बार रक्षाबंधन भी शानदार योग के दौर से गुजर रहा है।

ज्योतिषियों के अनुसार राजयोग में रक्षाबंधन का पर्व आएगा।
इस समय भद्रा सावत नहीं होगी जिससे बहनें दिन भर भाई को राखी बांध सकें। इस दौरान बृहस्पति की कुम्भ राशि में वक्र वक्री होगी और चंद्रमा इसके साथ रहेगा।

बृहस्पति और चंद्रमा की युति के कारण रक्षाबंधन गजकेसरी योग कर रहा है।
गजकेसरी योग मनुष्य की महत्वाकांक्षाओं को पूरा करता है। धन, घर, वाहन जैसे सुख की प्राप्ति होती है।
गज केसरी योग भी समाज में शाही खुशी और सम्मान लाता है।

गजकेसरी योग से लाभ होगा – गजकेसरी योग

ये तब होता है जब चंद्रमा और बृहस्पति एक दूसरे को देख रहे हों।
यह लोगों को भाग्यशाली बनाता है, लेकिन अगर कुंडली में बृहस्पति या चंद्रमा कमजोर हो तो इस योग का लाभ नहीं होता है।

साथ ही सूर्य, मंगल और बुध सिंह राशि में एक ही समय में रहेंगे।
सिंह राशि का स्वामी सूर्य है। इस राशि में उनके साथ मित्र मंगल भी रहेगा।
तो शुक्र कन्या राशि में होगा। ग्रहों का यह योग बहुत ही शुभ और फलदायी होने वाला है।

ज्योतिषियों का कहना है कि रक्षाबंधन 474 साल बाद ऐसा दुर्लभ योग बना रहा है।
इससे पहले 11 अगस्त 1547 को ग्रहों की ऐसी स्थिति बनी थी।

राखी बांधने का शुभ

मुहूर्त- रक्षाबंधन में 12 घंटे 13 मिनट तक राखी बांधने का शुभ मुहूर्त रहेगा.
राखी को आप सुबह 5.50 बजे से शाम 6.03 बजे तक कभी भी बांध सकते हैं।
भद्रा काल 23 अगस्त को सुबह 5:34 बजे से शाम 6:12 बजे तक रहेगा।

इस दिन शोभन योग सुबह 10:34 बजे तक और धनिष्ठा नक्षत्र शाम 7:40 बजे तक रहेगा.
कहा जाता है कि धनिष्ठा नक्षत्र में जन्म लेने वालों का अपने भाई-बहनों के साथ बहुत ही खास रिश्ता होता है और इसी वजह से रक्षाबंधन को धनिष्ठा नक्षत्र के लिए खास माना जाता है.

From Around the web