बर्तन धोने वाला “डिश स्पंज” बनता है बीमारी का कारण

आप अपने किचन में बर्तन धुलने के लिए जिस डिश स्पंज का इस्तेमाल करती हैं वो आपको बीमार भी कर सकता है। जी हाँ ये सुनने में आपको थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन ये सच है कि आपके स्पंज में मौजूद बैक्टीरिया आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत खतरनाक साबित हो सकते हैं। अगर आप
 
बर्तन धोने वाला “डिश स्पंज” बनता है बीमारी का कारण

आप अपने किचन में बर्तन धुलने के लिए जिस डिश स्पंज का इस्तेमाल करती हैं वो आपको बीमार भी कर सकता है। जी हाँ ये सुनने में आपको थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन ये सच है कि आपके स्पंज में मौजूद बैक्टीरिया आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत खतरनाक साबित हो सकते हैं।

अगर आप सोच रहे हैं कि डिश स्पंज को रोजाना साफ़ करने से आप बैक्टीरिया को पनपने से रोक देंगे तो आप गलत हैं। स्पंज को सिर्फ साफ़ करने से बैक्टीरिया से छुटकारा नहीं मिल सकता है।

हाल में हुए एक शोध में यह बात सामने आयी कि बर्तन साफ़ करने के बाद खाने के कण  उसमें चिपके रहते हैं जिसमें सडन के बाद बैक्टीरिया पनप जाते हैं।

अगर आप अपने स्पंज को रोजाना साफ़ नहीं करते हैं तो बैक्टीरिया को पनपने में देर नहीं लगती है। इसके अलावा स्पंज में हमेशा गीलापन रहता है जिससे बैक्टीरिया के पनपने के लिए अनुकूल माहौल बन जाता है। आगे चलकर ये बैक्टीरिया आस पास रखे खाने पीने की चीजों तक पहुंच जाते हैं या हाथो द्वारा आपके शरीर में प्रवेश कर जाते हैं।

रिसर्च के अनुसार जब इन स्पंज को माइक्रोस्कोप से देखा गया तो पता चला कि इसमें टाइफाइड, कालरा और फ़ूड पाजनिंग फैलाने वाले बैक्टीरिया मौजूद थे। इसलिए इसे बिल्कुल भी अनदेखा करने की कोशिश न करें।

ये बैक्टीरिया फिर आपके हाथो द्वारा आपके शरीर के अंदर पहुंचकर आपको नुकसान पहुंचाते हैं। इस आर्टिकल में हम इससे जुड़ी कुछ और बाते आपको बता रहे हैं।

डिश स्पंज को गर्म पानी से धुलने से भी उसमें मौजूद बैक्टीरिया पूरी तरह खत्म नहीं होते हैं। वे उस तापमान  पर भी आसानी से सर्वाइव कर सकते हैं। स्पंज के अंदर किसी छोटे से कोने में भी जहाँ हीट नहीं पहुंच सकती वहां लाखों बैक्टीरिया  मौजूद हो सकते हैं।

अब आपके मन में यह सवाल आ रहा होगा कि फिर ऐसे में क्या करें? क्या रोज हम नया स्पंज खरीद कर लायें? या इसकी जगह दूसरा आप्शन क्या है ?

अन्य विकल्प 

इससे बचने का एक ही तरीका है कि आप डिश स्पंज को एक हफ्ते से ज्यादा समय तक इस्तेमाल न करें। अगर संभव हो तो नारियल की जड़ें या ऐसे किसी अन्य चीजों से बर्तन की सफाई करें। अन्यथा फिर स्पंज को नियमित अंतराल पर बदलते रहें, यही उपाय है।

From Around the web