Chanakya Niti : दुश्मन को देनी है मात तो चाणक्य देते हैं ये सलाह

 
Chanakya Niti To defeat the enemy Chanakya gives this advice

नई दिल्ली, 21 सितम्बर 2021.: Chanakya Niti आचार्य चाणक्य एक कुशल रणनीतिकार, अर्थशास्त्री और विद्वान थे। उनके जीवन में शिक्षा का विशेष महत्व था। चाणक्य ने बहुत कम उम्र में वेदों और शास्त्रों का ज्ञान प्राप्त कर लिया था। चाणक्य ने अपनी कूटनीति और रणनीति से अपने सबसे बड़े दुश्मन पद्मानंद को हरा दिया और आम चंद्रगुप्त मौर्य को सम्राट बना दिया। चाणक्य ने अपने जीवन में कई पुस्तकें और ग्रंथ लिखे।

आचार्य चाणक्य बाद में तक्षशिला के छात्रों के मार्गदर्शक बने। उनकी किताब एथिक्स अभी भी लोकप्रिय है। चाणक्य नीति में जीवन के सभी पहलुओं को शामिल किया गया है। यदि कोई व्यक्ति उसमें लिखी बातों का पालन करता है, तो उसे जीवन में हमेशा सफलता मिलेगी। चाणक्य नैतिकता में कहते हैं कि यदि व्यक्ति अपने शत्रु को परास्त करना चाहता है तो उसे इन बातों का पालन करना चाहिए।

चाणक्य का कहना है कि अगर कोई व्यक्ति अपने दुश्मन को कम आंकने की गलती करता है, तो युद्ध पहले ही हार जाता है। शत्रु पर विजय पाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना पड़ता है।

Chanakya Niti To defeat the enemy Chanakya gives this advice 2

दुश्मन की हर हरकत पर नजर रखें

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि शत्रु पर विजय पाने के लिए यह जानना आवश्यक है कि उसकी कमजोरी क्या है और उसकी ताकत क्या है। शत्रु के कार्यों को कभी भी नज़रअंदाज न करें। दुश्मन की हर हरकत पर हमेशा नजर रखें। शत्रु की प्रत्येक क्रिया से अवगत होकर ही वह व्यक्ति विजयी हो सकता है।

शत्रु शक्तिशाली हो तो

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि यदि आपका शत्रु बलवान है तो उसे बुद्धिमानी से परास्त करें। अगर आपका दुश्मन आपसे ज्यादा ताकतवर है तो छुपकर जवाब देना ही बेहतर है।इस दौरान अपनी ताकत उतनी ही बढ़ाएं जितनी दुश्मन। अपने शुभचिंतकों के साथ योजना बनाएं और फिर हमला करें।

दुश्मन को कम मत समझो

अपने दुश्मन को कमजोर समझने की गलती कभी न करें। ज्यादातर लोग दुश्मन को कमजोर मानते हैं जो कि उनकी सबसे बड़ी भूल होती है। आपको अपने दुश्मन को जानना चाहिए। दुश्मन की कमजोरी और ताकत को हमेशा जाना जाना चाहिए। तभी व्यक्ति अपने शत्रु को परास्त कर सकता है।

From Around the web