माथे पर तिलक लगाना है सेहत के लिए अच्छा : जानें रीति-रिवाजों के नियम पालन करने के वैज्ञानिक कारण

रीति-रिवाजों और परंपराओं का पालन करना हमारी आस्था और विश्वास पर निर्भर करता है। लेकिन हमारे तरीके को संशोधित करने के वैज्ञानिक कारण भी हैं। इनमें से कुछ आपको स्वस्थ रखने में भी मदद करते हैं। तो आज हम आपको स्वास्थ्य पर उन्हीं नियमों के वैज्ञानिक फायदों के बारे में बताएंगे। तिलक लगाना: दोनों भौंहों
 
माथे पर तिलक लगाना है सेहत के लिए अच्छा : जानें रीति-रिवाजों के नियम पालन करने के वैज्ञानिक कारण

रीति-रिवाजों और परंपराओं का पालन करना हमारी आस्था और विश्वास पर निर्भर करता है। लेकिन हमारे तरीके को संशोधित करने के वैज्ञानिक कारण भी हैं। इनमें से कुछ आपको स्वस्थ रखने में भी मदद करते हैं। तो आज हम आपको स्वास्थ्य पर उन्हीं नियमों के वैज्ञानिक फायदों के बारे में बताएंगे।

तिलक लगाना:

दोनों भौंहों के बीच सिर पर तिलक लगाने से हमारे मस्तिष्क के एक खास हिस्से पर दबाव पड़ता है, जिससे शरीर की ऊर्जा और एकाग्रता शक्ति बढ़ती है। तिलक लगाने से चेहरे की मांसपेशियों का रक्त संचार भी बेहतर होता है, जिससे त्वचा की चमक बढ़ती है।

हाथ जोड़कर अभिवादन करना :

पूजा के दौरान हाथ जोड़कर उनका अभिवादन करना और अपने से बड़े से मिलने पर हथेलियों और उंगलियों के बिंदुओं पर दबाव पड़ता है जो शरीर के अंगों जैसे आंख, नाक, कान, हृदय से जुड़े होते हैं। यह शरीर के कार्य में सुधार करता है और बीमारियों के जोखिम को कम करता है।

मंदिर में घंटियों की आवाज:

शोध कहता है कि जब हम मंदिर की घंटी बजाते हैं तो उसकी आवाज हमारे कानों में 6 सेकेंड तक गूँजती है। इस दौरान शरीर को आराम देने वाले 9 बिंदु सक्रिय हो जाते हैं, जिससे शरीर से नकारात्मक ऊर्जा दूर हो जाती है।

मंदिर में नंगे पैर चलना:

नंगे पांव चलने से पैरों के प्रेशर पॉइंट्स पर भी दबाव पड़ता है, जिससे ब्लड प्रेशर, डायबिटीज और हृदय रोग जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा कम होता है।

जमीन पर भोजन करना:

जब हम भोजन करते हैं तो हम जमीन पर पीठ करके बैठ जाते हैं। यह पाचन के लिए सबसे अच्छी स्थिति मानी जाती है। इस तरह बैठकर खाने से पाचन क्रिया बेहतर होती है और पेट की समस्या दूर होती है।

सुबह में जागना:

कम प्रदूषण के कारण सुबह के समय वातावरण में ऑक्सीजन की मात्रा सबसे अधिक होती है। इस दौरान उठने-बैठने या सांस लेने के व्यायाम करने से पूरे शरीर में ऑक्सीजन का संचार बढ़ जाता है। यह शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार करता है।

कपूर और हवन धुआं:

कपूर और हवन के धुएं से घर में सुगंध फैलती है, जिससे मन शांत होता है। साथ ही यह आसपास के पहले बैक्टीरिया को खत्म कर देता है, जिससे बीमारियों का खतरा कम हो जाता है।

बिना नहाए नहीं खाना चाहिए :

साफ कपड़े पहनने से शरीर से बैक्टीरिया दूर होते हैं। हम तरोताजा महसूस करते हैं और भूख भी लगती है। भोजन के बाद स्नान करते समय शरीर अचानक ठंडा हो जाता है, जिससे पाचन क्रिया धीमी हो जाती है।

From Around the web