सावधान! टाइट जींस पहनना हो सकता है खतरनाक, होता है शरीर को ये नुक्सान

 
Alert! Wearing tight jeans can be dangerous it is harmful to the body

नई दिल्ली, 27 सितम्बर 2021. कभी-कभी जो फैशन आपको खूबसूरत बनाता है वह आपको बीमार भी कर सकता है। ये है आपकी टाइट जींस का फैशन। लड़कियां अक्सर स्किनी फिट या बहुत टाइट जींस पहनना पसंद करती हैं, जिसे पहनना उन्हें बहुत मुश्किल लगता है।

ये टाइट जींस आपके लिए खतरनाक भी हो सकती है और कई बीमारियों की शुरुआत मानी जा सकती है। एक नहीं बल्कि कई रिपोर्ट्स में ये बात सामने आई है कि टाइट लेगिंग्स आपके लिए काफी नुकसानदायक हो सकती हैं।

डॉक्टरों को कई ऐसे मामले भी मिले हैं जिनमें यह पाया गया है कि मरीजों ने टाइट जींस आदि के कारण दर्द सहित कई बीमारियों की शिकायत की है। एक प्रतिष्ठित मीडिया रिपोर्ट से पता चला है कि इससे तंत्रिका और मांसपेशियों की समस्याएं हो सकती हैं। अगर आप भी ऐसे में टाइट जींस पहनती हैं तो आपको यह जानने की जरूरत है कि यह आपकी सेहत के लिए कितना खतरनाक हो सकता है।

Alert! Wearing tight jeans can be dangerous it is harmful to the body

खून का जमना

स्किनी जींस पहनने से आपके शरीर में रक्त संचार प्रभावित होता है और इसके प्रभाव से आपके शरीर में रक्त का थक्का बनना शुरू हो सकता है। यह आपके पैरों और पीठ के ऊपरी हिस्से में नसों पर दबाव डालता है, जिससे जांघों और पीठ में दर्द होता है और पैरों में ऐंठन जैसी समस्या होती है। यह रक्त संचार के लिए सबसे खराब पोशाक मानी जाती है।

पेट में दर्द

टाइट जींस पहनने से पेट के निचले हिस्से पर बहुत अधिक दबाव पड़ता है और रक्त प्रवाह धीमा हो जाता है। इससे न सिर्फ पेट बल्कि कूल्हे के जोड़ों पर भी काफी असर पड़ता है। जब आप टाइट जींस पहनते हैं या रोजमर्रा के काम करते हैं तो इससे पेट में दर्द होने लगता है।

संक्रमण का खतरा

टाइट जींस न केवल नसों को प्रभावित करती है, बल्कि आपकी त्वचा पर सीधा प्रभाव डालती है। इससे कई तरह के स्किन इंफेक्शन का खतरा भी बढ़ जाता है। कई लोगों में इससे त्वचा पर रैशेज, सूजन आदि लक्षण दिखाई देते हैं। वहीं पुरुषों के लिए टाइट जींस जननांगों को प्रभावित करती है।

यह नसों को भी प्रभावित करता है

स्किनी जींस पहनने से लेटरल कॉक्लियर नर्व भी सिकुड़ती है और नसों पर दबाव पड़ता है। इससे प्राइवेट पार्ट पर भी असर पड़ता है और कई कारणों से पसीने की समस्या होने लगती है।

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Sabkuchgyan इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें. इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद

From Around the web