पुराणों, के अनुसार इन लोगों के घर भूलकर भी नहीं करना चाहिए भोजन

पुराणों में भी कुछ ऐसी ही बातें बताई गई है, जिसके अनुसार इंसान के लिए कुछ ऐसे स्थान है, जहां पर इंसान को भोजन करने से बचना चाहिए, क्योंकि इन जगहों पर भोजन करने से इंसान का मन भी उसी स्थान के अनुसार बदल जाता है, तो आओ जानते हैं, पुराणों के अनुसार किन स्थानों
 

पुराणों में भी कुछ ऐसी ही बातें बताई गई है, जिसके अनुसार इंसान के लिए कुछ ऐसे स्थान है, जहां पर इंसान को भोजन करने से बचना चाहिए, क्योंकि इन जगहों पर भोजन करने से इंसान का मन भी उसी स्थान के अनुसार बदल जाता है, तो आओ जानते हैं, पुराणों के अनुसार किन स्थानों पर भोजन करने से बचना चाहिए?

 चोरी या अपराधी

कोई इंसान चोर है और न्यायालय में उसका अपराध साबित हो चुका है, तो उसके घर में भोजन करने से बचना चाहिए। गरुड़ पुराण के अनुसार चोर के यहां भोजन करने से उसके पापों का प्रभाव हमारी जिंदगी पर भी पड़ता है।

 चरित्रहीन स्त्री

मित्रों हमें इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए, कि चरित्रहीन स्त्री के हाथ से बना हुआ या उसके घर का भोजन नहीं करना चाहिए। यहां चरित्रहीन स्त्री का अर्थ है, कि जो स्त्री स्वेच्छा से पूरी तरह धार्मिक आचरण करती है। गरुड़ पुराण में बताया गया है, कि जो इंसान ऐसी स्त्री के भोजन करता है। उसके पापों का फल हमें भी भोगना पड़ता है।

 अत्यधिक क्रोधी व्यक्ति

मित्रों क्रोध को मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन माना गया है। अक्सर क्रोध के आवेश में इंसान अच्छे और बुरे में भेद करना भूल जाता है। इस कारण इंसान को नुकसान उठाना पड़ता है, जो लोग हमेशा क्रोधित रहते हैं। उनके घर में कभी भी भोजन नहीं करना चाहिए। यदि हम उनके साथ भोजन करेंगे, तो उनके क्रोध के गुण हमारे अंदर भी प्रवेश कर सकते हैं।

 नपुसंक या किन्नर

मित्रों किन्नरों को दान देने का विशेष विधान बनाया गया है। ऐसा माना जाता है, कि इन्हें दान देने से हमें पुण्य की प्राप्ति होती है। गरुड़ पुराण के अनुसार इन हमें दान देना चाहिए, लेकिन इनके साथ या इनके घर में कभी भी भोजन नहीं करना चाहिए। किन्नर कई प्रकार के लोगों से दान में धन प्राप्त करता है। इन्हें दान देने वालों में अच्छे बुरे दोनों प्रकार के इंसान शामिल होते हैं।

 चुगलखोर व्यक्ति

जिस इंसान की आदत दूसरे इंसानो की चुगली करने की होती है। उनके यहां या उनके घर में कभी भी भोजन नहीं करना चाहिए। चुगली करना एक गलत आदत है। चुगली करने वाले इंसान दूसरों को समस्या में फंसा देते हैं और स्वयं उनका आनंद उठाते हैं। इस काम को भी पाप की श्रेणी में रखा गया है। अतः ऐसे इंसानों के साथ जिंदगी में कभी भी भोजन नहीं करना चाहिए।

नशीली चीजें बेचने वाले

नशा करना भी पाप की श्रेणी में माना गया है और जो इंसान नशीली चीजों का बिजनेस करता है। गरुड़ पुराण के अनुसार ऐसे लोगों के घर में भी भोजन करने से बचना चाहिए। नशे के कारण कई लोगों के घर उजड़ जाते हैं। इनका सारा दोष नशा बेचने वाले लोगों पर लगता है। अतः ऐसे लोगों के यहां भोजन करने से उनके पापों का प्रभाव हमारी जिंदगी पर भी पड़ता है।

From Around the web