अब भारतीय छात्र देश में रहकर विदेशी डिग्री प्राप्त कर सकते हैं

भारतीय छात्रों को अब उच्च शिक्षा के लिए विदेश नहीं जाना पड़ेगा। वे देश में रहने और विदेशी उच्च शिक्षा संस्थानों से संबंधित पाठ्यक्रमों का अध्ययन करने में भी सक्षम होंगे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने भारतीय और विदेशी उच्च शिक्षा संस्थानों के बीच शैक्षिक सहयोग को बढ़ावा देने के लिए एक नए विनियमन का
 
अब भारतीय छात्र देश में रहकर विदेशी डिग्री प्राप्त कर सकते हैं

भारतीय छात्रों को अब उच्च शिक्षा के लिए विदेश नहीं जाना पड़ेगा। वे देश में रहने और विदेशी उच्च शिक्षा संस्थानों से संबंधित पाठ्यक्रमों का अध्ययन करने में भी सक्षम होंगे। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने भारतीय और विदेशी उच्च शिक्षा संस्थानों के बीच शैक्षिक सहयोग को बढ़ावा देने के लिए एक नए विनियमन का मसौदा तैयार किया है। इसके तहत, देश भर के उच्च शिक्षा संस्थान अब विदेशी उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ संयुक्त या दोहरे डिग्री पाठ्यक्रम शुरू कर सकेंगे। इन पाठ्यक्रमों के कुल क्रेडिट स्कोर का लगभग 30 से 50 प्रतिशत भारतीय संस्थानों में जमा किया जाएगा।

यूजीसी ने यह कदम अध्ययन के लिए विदेश जाने वाले भारतीय छात्रों के बढ़ते रुझान को देखते हुए उठाया है। हालांकि, नया विनियमन ऑनलाइन पाठ्यक्रमों की अनुमति नहीं देगा। इसी समय, वे एक कोर्स शुरू करने में सक्षम नहीं होंगे जो देश की राष्ट्रीय सुरक्षा और भौगोलिक अखंडता के खिलाफ है।

From Around the web