चाणक्य नीति- कुछ भी कोई कर लें, लेकिन ये चीज़ भूलकर भी किसी को न दें

चाणक्य जो भारत के सबसे बुद्धिजीवी लोगों में से एक माने जाते हैं इन पर कई किताबें लिखी गई है और इनकी चाणक्य नीति जो पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है इस चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य ने कई ऐसी नीतियां बताई है जिनसे कोई भी व्यक्ति एक कामयाब व्यक्ति बन सकता है और कई गलतियां
 
चाणक्य नीति- कुछ भी कोई कर लें, लेकिन ये चीज़ भूलकर भी किसी को न दें

चाणक्य जो भारत के सबसे बुद्धिजीवी लोगों में से एक माने जाते हैं इन पर कई किताबें लिखी गई है और इनकी चाणक्य नीति जो पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है इस चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य ने कई ऐसी नीतियां बताई है जिनसे कोई भी व्यक्ति एक कामयाब व्यक्ति बन सकता है और कई गलतियां करने से बच सकता है ।

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

अगर आप बेरोजगार हैं तो यहां पर निकली है इन पदों पर भर्तियां

दसवीं पास लोगों के लिए इस विभाग में मिल रही है बम्पर रेलवे नौकरियां

ईस्ट कोस्ट रेलवे में बम्पर भर्ती 2019 : 10वीं, 12वीं और ITI वाले आवेदन करने में देर ना करें -अभी यहाँ देखें 

चाणक्य नीति- कुछ भी कोई कर लें, लेकिन ये चीज़ भूलकर भी किसी को न दें

आज हम उसी चाणक्य नीति से आपको एक ऐसी बात बताने वाले हैं जो आपको जीवन में बहुत ज्यादा काम आएंगी और यदि यह बात आपको काम की लगे तो लाइक, कमेंट और शेयर करना ना भूले ।

यह एक चीज आपको किसी को भी नहीं देनी चाहिए

भागवत गीता में भी यह बात बताई गई है कि हर किसी व्यक्ति की कोई ना कोई कमजोरी अवश्य होती है और हर व्यक्ति की कमजोरी उस उसका रहस्य होता है यानी कि उनके जीवन के कुछ ऐसे रहस्य जिनके बारे में यदि कोई और जान जाए तो बहुत अनर्थ हो सकता है और वह व्यक्ति अपमानित भी हो सकते हैं ।

चाणक्य नीति- कुछ भी कोई कर लें, लेकिन ये चीज़ भूलकर भी किसी को न दें

आचार्य चाणक्य का कहना था कि आपको अपना रहस्य कभी भी किसी और के हाथ में भूलकर भी नहीं देना चाहिए चाहे वह आपका कितना ही भरोसे मंद मित्र क्यों ना हो या फिर आपकी प्रिय पत्नी ही क्यों ना हो क्योंकि समय आने पर जब वह आपके विरुद्ध हो जाएगा तो वह आपका रहस्य किसी और को बता सकता है और आपका बहुत बड़ा नुकसान कर सकता है जैसे कि विभीषण ने रावण के साथ किया था और भगवान राम को रावण की मृत्यु का रहस्य बता दिया था की रावण के प्राण उसकी नाभि में हैं यदि रावण विभीषण को अपने मृत्यु का रहस्य नहीं बताता तो उसका मर पाना लगभग नामुमकिन था ।

From Around the web