जन्माष्टमी 2020 : जानिए इस बार जन्माष्टमी कब मनाई जाएगी? 11 को या 12 अगस्त को ?

सावन माह की समाप्ति के साथ ही भादो माह शुरू हो गया है और इस महीने का पहला सबसे बड़ा त्योहार यानी जन्माष्टमी बहुत नजदीक है। इसके लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। हर कोई भगवान कृष्ण की भक्ति में डूबने के लिए तैयार है। इस बार लोग जन्माष्टमी को लेकर उलझन में हैं, कुछ
 
जन्माष्टमी 2020 : जानिए इस बार जन्माष्टमी कब मनाई जाएगी? 11 को या 12 अगस्त को ?

सावन माह की समाप्ति के साथ ही भादो माह शुरू हो गया है और इस महीने का पहला सबसे बड़ा त्योहार यानी जन्माष्टमी बहुत नजदीक है। इसके लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं। हर कोई भगवान कृष्ण की भक्ति में डूबने के लिए तैयार है। इस बार लोग जन्माष्टमी को लेकर उलझन में हैं, कुछ 11 अगस्त को जन्माष्टमी मनाएंगे और कुछ 12 अगस्त को मनाएंगे। हर बार की तरह जन्माष्टमी दो दिन मनाई जानी है। देश इस त्योहार को 11 और 12 तारीख दोनों को मनाएगा। हालांकि, 12 वां दोनों का सबसे अच्छा है। यह महापर्व 12 अगस्त को श्री कृष्ण की नगरी मथुरा और द्वारका दोनों में मनाया जाएगा।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

जन्माष्टमी तिथि: अष्टमी तिथि शुरू हो रही है – 11 अगस्त, 2020, मंगलवार, सुबह 9 बजकर 6 मिनट।

अष्टमी तिथि समाप्त होती है – 12 अगस्त, 2020, बुधवार, सुबह 11 बजकर 16 मिनट।

जन्माष्टमी 2020 : जानिए इस बार जन्माष्टमी कब मनाई जाएगी? 11 को या 12 अगस्त को ?

कृष्ण का जन्म कब हुआ था?

भगवान श्री कृष्ण का जन्म द्वापरयुग में हुआ था। भाद्रपद माह में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को, श्री कृष्ण का जन्म रोहिणी नक्षत्र में मध्यरात्रि को माता देवकी के गर्भ से हुआ था। श्री कृष्ण का जन्म एक कारागार में हुआ था। जहाँ उसके माता-पिता को उसके मामा कंस ने बंदी बना रखा था। कृष्ण को यशोदा और नंद बाबा ने पाला था।

जन्माष्टमी कैसे मनाएं?

जन्माष्टमी त्योहार भगवान श्री कृष्ण को समर्पित है। इस दिन परिवार में भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है। कुछ घरों में जाते हैं और कुछ मंदिरों में पूजा करते हैं। भगवान माखन-मिश्री को प्रसाद के रूप में चढ़ाया जाता है। विभिन्न स्थानों पर भजन-कीर्तन, प्रसाद वितरण, मटकी बुर जैसे आयोजन किए जाते हैं।

From Around the web