पति मेरी माँ के साथ बिल्कुल ऐसे ही रहना जैसे तुम अपनी माँ के साथ रहती हो

अगले दिन सुबह पत्नी: मम्मी मेरे लिए एक कप चाय बना दो और नाश्ते में आलू का पराठा बनाना बन जाये तो उठा देना।कई बार घर में कुछ ऐसे मसले होते हैं, जहा पति पत्नी दोनों को साथ में खड़े होना चाहिए पति जैसे ही घर लौटा पत्नी कॉलर पकड़ कर – आज कल
 
पति मेरी माँ के साथ बिल्कुल ऐसे ही रहना जैसे तुम अपनी माँ के साथ रहती हो

अगले दिन सुबह पत्नी: मम्मी मेरे लिए एक कप चाय बना दो और नाश्ते में आलू का पराठा बनाना बन जाये तो उठा देना।कई बार घर में कुछ ऐसे मसले होते हैं, जहा पति पत्नी दोनों को साथ में खड़े होना चाहिए

पति मेरी माँ के साथ बिल्कुल ऐसे ही रहना जैसे तुम अपनी माँ के साथ रहती हो

 

पति जैसे ही घर लौटा

पत्नी कॉलर पकड़ कर – आज कल फेसबुक पे बहुत शायरी डालते रहते हो।

पति – अरे सोनियो वो तो मैं ऐसे ही …..

पत्नी – ये तेरी जुल्फें है या रेशम की डोर

ये किसके लिए लिखा था.

पति – तुम्हारे लिए ही लिखा है, तेरी कसम.

पत्नी – तो रात को जब खाने में कोई रेशम की डोर निकल आती है तो,

इतना चिल्लाते क्यों हो ?

पति मेरी माँ के साथ बिल्कुल ऐसे ही रहना जैसे तुम अपनी माँ के साथ रहती हो

पत्नी (पति से)- सुनो जी, आपकी वह नीली शर्ट मुझसे जल गई है।

पति – कोई बात नहीं, मेरे पास वैसी एक और शर्ट है.

पत्नी – पता है, तभी तो मैंने उस शर्ट में से कपड़ा काटकर जली हुई शर्ट पर पैबंद लगा दिया है।

लड़की – घर पर कोई नहीं है शाम को आ जाना

पति मेरी माँ के साथ बिल्कुल ऐसे ही रहना जैसे तुम अपनी माँ के साथ रहती हो

लड़की (रात को अचानक) – जल्दी से उठो

पापा आ गए हैं गेट पे

लड़का – अरे यार मरवा दिया आज

लड़की – जल्दी खिड़की से नीचे कूदो

लड़का – अरे लेकिन ये तो 13 वीं मंजिल है

लड़की – डार्लिंग ये कोई शगुन अपशगुन सोचने का वक्त नहीं है

लड़का वहीं बेहोश

From Around the web