अगर ऐसा हो रहा है तो हो जाएं सावधान.. कमजोर इम्युनिटी के हैं लक्षण!

नई दिल्ली, 30 अगस्त 2021 :- रोग प्रतिरोधक क्षमता आपको बीमारियों से बचाती है। अगर इम्युनिटी कमजोर होती है तो शरीर भी इसका संकेत देता है। आइए जानते हैं क्या हैं वो संकेत। लंबे समय तक तनाव: – लंबे समय तक तनाव प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को बहुत कमजोर बना देता है। अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन के
 
अगर ऐसा हो रहा है तो हो जाएं सावधान.. कमजोर इम्युनिटी के हैं लक्षण!

नई दिल्ली, 30 अगस्त 2021 :- रोग प्रतिरोधक क्षमता आपको बीमारियों से बचाती है। अगर इम्युनिटी कमजोर होती है तो शरीर भी इसका संकेत देता है। आइए जानते हैं क्या हैं वो संकेत।

लंबे समय तक तनाव: – लंबे समय तक तनाव प्रतिरक्षा प्रणाली की प्रतिक्रिया को बहुत कमजोर बना देता है। अमेरिकन साइकोलॉजिकल एसोसिएशन के अनुसार, तनाव शरीर में लिम्फोसाइटों की मात्रा को कम करता है। यही कोशिकाएं संक्रमण से लड़ने में मदद करती हैं।

लगातार सर्दी और फ्लू : सर्दी में दो-तीन बार सर्दी-जुकाम होना आम बात है। ज्यादातर लोग 7 से 10 दिनों में ठीक हो जाते हैं। प्रतिरक्षा प्रणाली को एंटीबॉडी बनाने में तीन से चार दिन लगते हैं, लेकिन यदि आप बहुत अधिक समय तक बिस्तर पर रहते हैं, तो यह कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली का संकेत है।

अधिकांश कान संक्रमण: – अमेरिकन एकेडमी ऑफ एलर्जिक अस्थमा और इम्यूनोलॉजी के अनुसार, वर्ष में चार बार से अधिक कान में संक्रमण, और वर्ष में दो बार निमोनिया ऐसे लक्षण हैं जो कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली की ओर इशारा करते हैं।

पेट खराब होना :– नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के अनुसार 70% इम्युनिटी पाचन तंत्र पर निर्भर करती है। यहां लाभकारी बैक्टीरिया और सूक्ष्मजीव आंतों को संक्रमण से बचाते हैं। अगर आपको हमेशा डायरिया, कब्ज की समस्या रहती है तो यह कमजोर इम्युनिटी का संकेत हो सकता है।

शरीर के घावों का देर से ठीक होना: – कहीं भी कट, जले या खरोंच लगने पर त्वचा जल्दी से डैमेज कंट्रोल मोड में आ जाती है। शरीर घाव को पुनर्जीवित करने में मदद करने के लिए उस क्षेत्र में पौष्टिक रक्त भेजकर उसकी रक्षा करना शुरू कर देता है। यह प्रक्रिया स्वस्थ प्रतिरक्षा कोशिकाओं पर निर्भर करती है।

From Around the web