30 साल बाद महिलाओं को जरूर कराने चाहिए ये 5 टेस्ट, क्या हैं वो टेस्ट अभी जाने

Important test for women | उम्र के साथ शरीर में कई बदलाव आते हैं। उम्र बढ़ने का चयापचय पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है, और इसके कमजोर होने से मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियां हो सकती हैं। महिलाओं के लिए 30 की उम्र बहुत ही महत्वपूर्ण होती है।

 
WOMEN IMPORTANT TEST AFTER 30 AGE
WOMEN IMPORTANT TEST AFTER 30 AGE

नई दिल्ली, 6 अक्टूबर 2021. Important test for women ​​​​​​​ | उम्र के साथ शरीर में कई बदलाव आते हैं। उम्र बढ़ने का चयापचय पर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है, और इसके कमजोर होने से मधुमेह और उच्च रक्तचाप जैसी बीमारियां हो सकती हैं। महिलाओं के लिए 30 की उम्र बहुत ही महत्वपूर्ण होती है। (WOMEN IMPORTANT TEST AFTER 30 AGE)

इस उम्र में कई जिम्मेदारियों और मानसिक तनाव को संतुलित करना मुश्किल होता है, जिसका असर स्वास्थ्य पर पड़ता है। 30 के दशक में कई हार्मोनल बदलाव भी होते हैं। इसी वजह से स्वास्थ्य विशेषज्ञ इस उम्र में महिलाओं को 5 टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। आइए जानते हैं क्या हैं ये टेस्ट।

1. खून की गिनती -

पूर्ण रक्त गणना को CBC भी कहा जाता है। सीबीसी संक्रमण, एनीमिया, विकार और कुछ प्रकार के कैंसर को समझ सकता है। यह लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी), सफेद रक्त कोशिकाओं (डब्ल्यूबीसी), हीमोग्लोबिन, हेमटोक्रिट (एचसीटी) और प्लेटलेट्स के बारे में भी जानकारी प्रदान करता है।

2. लिपिड प्रोफाइल - लिपिड प्रोफाइल (Lipid Profile) रक्त में वसा अणुओं की मात्रा को मापता है। यह कई तरह के कोलेस्ट्रॉल को समझता है। यह परीक्षण हृदय रोग और रक्त वाहिका स्वास्थ्य के परीक्षण में मदद करता है।

लिपिड प्रोफाइल को समझने के बाद खाने की आदतों, आहार, तनाव, व्यायाम और जीवन शैली को समायोजित किया जा सकता है। आमतौर पर थायराइड या पॉलीसिस्टिक अंडाशय की बीमारी खराब लिपिड प्रोफाइल से जुड़ी होती है। (महिलाओं के लिए आवश्यक परीक्षण)

3. थायराइड फंक्शन टेस्ट -
भारत में लगभग 10 में से 1 महिला को थायराइड की समस्या है। शुरुआत में लक्षण कम दिखाई देते हैं। इसके लिए महिलाओं को 30 साल बाद थायराइड टेस्ट करवाना चाहिए। सामान्य लक्षणों में अनियमित मासिक धर्म, वजन बढ़ना, बालों का झड़ना या बांझपन शामिल हैं।

4. ब्लड शुगर - 35-49 की उम्र के बीच की कई महिलाएं मधुमेह से पीड़ित हैं। कोई प्रारंभिक निदान नहीं है। मधुमेह में ब्लड शुगर अचानक बढ़ जाता है, जिसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। मधुमेह में शरीर ठीक से इंसुलिन नहीं बना पाता है। ऊर्जा और रक्त शर्करा के लिए इंसुलिन आवश्यक है।

WOMEN IMPORTANT TEST AFTER 30 AGE

5. पैप स्मीयर- महिलाओं में सर्वाइकल कैंसर के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। पैप स्मीयर स्क्रीनिंग से सर्वाइकल कैंसर का प्रारंभिक अवस्था में पता लगाया जा सकता है। यह परीक्षण गर्भाशय ग्रीवा में परिवर्तन का भी पता लगा सकता है। कोशिकाओं में होने वाले परिवर्तन बाद में कैंसर में बदल जाते हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, 30 वर्ष और उससे अधिक उम्र की महिलाओं को हर 5 साल में एक बार पैप स्मीयर टेस्ट करवाना चाहिए।

Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Sabkuchgyan इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें. इस खबर से सबंधित सवालों के लिए कमेंट करके बताये और ऐसी खबरे पढ़ने के लिए हमें फॉलो करना ना भूलें - धन्यवाद
 

From Around the web