स्वस्थ रहने के सबसे आसान है यें उपाय जो शायद ही आपको को मालूम न हो

 
These are the easiest ways to stay healthy which you hardly know

1.पर्याप्त व्यायाम करें

पहले के लोग अपने सामान्य कार्यों के दौरान अपने भौतिक शरीर का उपयोग करते थे लेकिन आज कोई भी सामान्य कार्यो के दौरान अपने सरीर का इस्तेमाल नही करता कोई चलता फिरता नही है आज के टाइम में किसी को कोई काम पड़ता है तो वो पैदल नही जायँगे बल्कि कार या बाइक से उस काम को करने जाते है और फिर घर मे आ के बैठ जाते है और दिन भर घर मे आराम से बैठे रहते है एसे , जीवन में कोई शारीरिक श्रम नहीं होता यह शारीरिक निष्क्रियता बीमारियों के एक मेजबान के मुख्य कारणों में से एक है। खेलने चलने और अन्य चीजों को हमारे जीवन में जोड़ा जाना चाहिए हमारे सामान्य काम के लिए हमें खुद को शारीरिक रूप से परिश्रम करने की आवश्यकता नहीं है 

2.जब आप नींद महसूस करें तो सो जाएं

यह सरल लग सकता है, लेकिन बहुत से लोग देर से भी उठते हैं, जब उनका शरीर उनसे कह रहा होता है कि यह सोने का समय नही है। योग और आयुर्वेदिक डॉक्टरों का भी यह कहना है कि रात में सोना और दिन में सक्रिय रहना बेहतर है। , छात्र  देर रात तक अध्ययन करने के लिए कॉफी और उत्तेजक पदार्थों का सेवन करते है रात में सक्रिय रहने और दिन के दौरान सोने की आदत होती है। ये आदत छात्र तक ही सीमित नही है बल्कि एक आम आदमी की भी ये आदत होती है गांव वो में ये आदत तो बहोत काम लोग की होती है लेकिन सहरो में रहने वाले लोगो को इसकी आदत बहोत ज्यादा होती है सहरो में तो लोग रात के तीन बजे तक जागते रहते है और सुबह 12,1 बजे तक उठते है वैकल्पिक स्वास्थ्य डॉक्टरों का कहना है कि इस तरह का अप्राकृतिक जीवन कैंसर और अन्य बीमारियों के कारण में योगदान करने वाले कारकों में से एक है

3.भूख लगने पर खाएं

यह भी एक सरल विचार है, लेकिन हम अक्सर शरीर के संदेशों के खिलाफ जाते हैं। यदि आप दिन के किसी निश्चित समय पर आदत से बाहर या सामाजिक दबाव के कारण खाते हैं, जब आपको कोई वास्तविक भूख नहीं होती है, तो आप अपने भोजन को ठीक से पचा नहीं पाते । अम्लता और अपच शुरू हो जाता है, और यह जड़ लेने वाले अन्य अधिक जटिल रोगों की संभावना में योगदान देता है। भूख लगना वास्तव में अच्छे स्वास्थ्य का संकेत है, लेकिन अगर आपको भूख नहीं है तो आपको खाना खाने के लिए थोड़ा इंतजार करना चाहिए और जब भूक लगे तो खाना खाये । यदि आपको उचित समय की प्रतीक्षा के बाद भी भूख न लगे , तो आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए और ड्रॉक्टर से अपनी परेशानी बतानी चाहिए 

4.एक नियमित, व्यवस्थित आधार पर उपवास

यदि आप किसी भी व्यक्ति को प्रति वर्ष 365 दिन बिना किसी आराम के काम करने के लिए कहेंगे, तो वे शिकायत करेंगे और कहेंगे कि उनके पास कुछ आराम होना चाहिए अन्यथा वे टूट जाएंगे। लेकिन हमने कभी भी अपने पाचन अंगों के बारे में पूछने या सोचने की जहमत नहीं उठाई है, जिसे हम बिना आराम के दिन रात काम करने के लिए मजबूर करते हैं। वे उस तरह से विरोध नहीं कर सकते जैसे कोई व्यक्ति अपने बॉस से करता है, लेकिन वे हमें संकेत देते हैं कि वे बिना रुके काम नहीं कर सकते। जब हम उन संकेतों को अनदेखा करते हैं और फिर भी उन्हें काम करने के लिए मजबूर करते हैं, तो वे अंग टूट जाते हैं। इसीलिए आवधिक उपवास आवश्यक है। एक दिन खाने से परहेज करें। एक दिन कुछ न खाय 

जैसे मुस्लिम लोग रोजा रहते है 

रोजे में मुस्लिम लोग दिनभर कुछ खाते पिते नही है और साल में एक महीना एसा होता है जिसे मुस्लिम लोग बहोत पवित्रा मानते है और इस महीने में पूरे महीने मुस्लिम लोग रोजे रहते है रोजे के महीने में मुस्लिम लोग सुराज निकलने के पहले खाना खाते है जिसे सहरी कहते है और सुराज डूबने के बाद खाना खाते है जिसे इफ्तार कहा जाता है बाकी दिनभर कुछ खाते पीते नही है आप चाहे तो इस तरह भी उपवास रख सकते है

या फिर जैसे हिन्दू लोग उपवास रखते है 

हिन्दुओ के उपवास के नियम ,

जल उपवास: एक निर्धारित समय तक केवल पानी पीना शामिल है ।

जूस उपवास: एक निश्चित अवधि के लिए केवल सब्जी या फलों का रस पीने से परहेज करता है ।

आंतरायिक उपवास: इंटेक आंशिक या पूरी तरह से कुछ घंटों तक एक समय में कुछ दिनों के लिए प्रतिबंधित होता है और अन्य दिनों में एक सामान्य आहार फिर से शुरू किया जाता है।

आंशिक उपवास: कुछ खाद्य पदार्थ या पेय जैसे प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ, पशु उत्पाद या कैफीन एक निर्धारित अवधि के लिए आहार से समाप्त हो जाते हैं।

कैलोरी प्रतिबंध: हर हफ्ते कुछ दिनों के लिए कैलोरी प्रतिबंधित है।

आप चाहे तो इस तरह भी उपवास रख सकते है 

 सभी धर्मो के लोग आपने धर्म के हिसाब से उपवास रखते है  यह आपके पाचन अंगों को आराम देता है और आपके शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को खत्म करने में भी मदद करता है। नियमित उपवास एक व्यक्ति को बौद्धिक या आध्यात्मिक खोज के लिए अतिरिक्त समय प्राप्त करने की अनुमति देता है। उपवास एक गुफा में धर्मोपदेश के लिए नहीं है, लेकिन एक समझदार अभ्यास है जो कोई भी अभ्यास कर सकता है।

5.बिस्तर पर जाने से पहले ठंडा पानी से मुह हाथ पैर धोएं

जैसा ऊपर बताया गया है, स्वास्थ्य के रखरखाव के लिए उचित नींद जरूरी है। यदि आप ठंडे पानी का उपयोग करके सोने से पहले अपनी महत्वपूर्ण मोटर और संवेदी अंगों (हाथों, बाहों, आंखें, पैर, मुंह, जननांग) धोते हैं, तो यह आपको आराम करेगा और आपको गहरी नींद के लिए तैयार करेगा। यदि आप मुस्लिम है तो वजू भी कर सकते है 

6.नियमित रूप से ध्यान करें

 आपका शरीर आपके दिमाग से जुड़ा हुआ है। इस युग के कई रोग मनोदैहिक हैं। तनाव और चिंता हमारे शारीरिक स्वास्थ्य पर अपना असर डालते हैं। ध्यान एक मानसिक व्यायाम है जो अन्य बातों के अलावा, आपको जीवन की चिंताओं से खुद को अलग करने की अनुमति देता है। एक सरल तकनीक सीखें और इसे नियमित रूप से करें।

7.हर दिन जल्दी उठें

 एक बार फिर पुरानी कहावत, "बिस्तर पर जल्दी उठना, एक व्यक्ति को स्वस्थ, धनी और बुद्धिमान बनाता है।" मुझे नहीं पता कि क्या यह आपको अमीर बना देगा, लेकिन यह निश्चित रूप से आपको स्वस्थ बना देगा। आपके शरीर को बस पर्याप्त नींद की जरूरत है, न बहुत ज्यादा और न बहुत कम।

बच्चों को भी खेलने को कहे 

आज के टाइम में तो बच्चे भी खेलो से दूर भाग रहे है पहले के बच्चे खेलो पे बहोत धेयान देते थे लेकिन आप के बच्चे खेलो पे ध्यान नही देते जबसे बच्चे मोबाइल में बेयस्थ हो गए है वीडियो गेम ही खेलते रहते है फिजिकल गेम खेलते ही नही है हमे बच्चों को भी समजाना चाहिए कि वी वीडियो गेम न खेल के फिजिकल गेम को खेले जिससे बच्चे फिट रहे आज काल छोटे छोटे बच्चों का भी पेट निकला हुवा है जिस वजह से ये बीमार हो रहे और सुस्त राह रहे है बच्चों के अंदर फुर्ती नही है अब और भी अनेको दिक्कतों का सामना कर रहे 

From Around the web