संजीवनी बूटी भी फेल है इस पौधे के आगे, फायदे जानकर हैरान रह जाओगे

आज हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताएंगे जो हमारे शरीर की बहुत सी बीमारियों को नष्ट कर देता है । और हमें स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है । यह पौधा किसी संजीवनी बूटी से कम नहीं है क्योंकि यह शरीर की बहुत सारी खतरनाक बीमारियों को खत्म करता है । इस पौधे
 
संजीवनी बूटी भी फेल है इस पौधे के आगे, फायदे जानकर हैरान रह जाओगे

आज हम आपको एक ऐसे पौधे के बारे में बताएंगे जो हमारे शरीर की बहुत सी बीमारियों को नष्ट कर देता है । और हमें स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है । यह पौधा किसी संजीवनी बूटी से कम नहीं है क्योंकि यह शरीर की बहुत सारी खतरनाक बीमारियों को खत्म करता है । इस पौधे का नाम जटामांसी है। आइए जानते हैं जटामांसी से होने वाले स्वास्थ्य लाभों के बारे में

संजीवनी बूटी भी फेल है इस पौधे के आगे, फायदे जानकर हैरान रह जाओगे

  1. रक्तचाप – जटामांसी औषधीय गुणों से भरी जड़ीबूटी है। एक चम्मच जटामांसी में शहद मिलाकर इसका सेवन करने से ब्लडप्रेशर को ठीक करके सामान्य स्तर पर लाया जा सकता है।

  2. पेट में दर्द – जटामांसी और मिश्री एक समान मात्रा में लेकर उसका एक चौथाई भाग सौंफ, सौंठ और दालचीनी मिलाकर चूर्ण बनाएं और दिन में दो बार 4 से 5 ग्राम की मात्रा में रोजाना सेवन करें। ऐसा करने से पेट के दर्द में आराम मिलता है।

  3. दांतों का दर्द – यदि कोई व्यक्ति दांतों के दर्द से परेशान है तो, जटामांसी की जड़ का चूर्ण बनाकर मंजन करें। ऐसा करने से दांत के दर्द के साथ-साथ मसूढ़ों के दर्द, सूजन, दांतों से खून, मुंह से बदबू जैसी समस्याएं भी दूर हो जाती हैं।

  4. सूजन और दर्द – अगर आप सूजन और दर्द से परेशान हैं तो जटामांसी चूर्ण का लेप तैयार कर प्रभावित भाग पर लेप करें। ऐसा करने से दर्द और सूजन दोनों से राहत मिलेगी।

  5. बाल काले और लंबे करना – जटामांसी के काढ़े से अपने बालों की मालिश कर सुबह-सुबह रोज लगायें और 2 घंटे के बाद नहा लें इसे रोज करने से फायदा पहुंचेगा।

  6. सिर दर्द – अक्सर तनाव और थकान के कारण सिर दर्द की परेशानी हो जाती है। इससे छुटकारा पाने के लिए जटामांसी, तगर, देवदारू, सोंठ, कूठ आदि को समान मात्रा में पीसकर देशी घी में मिलाकर सिर पर लेप करें, सिर दर्द में लाभ होगा।

From Around the web