इम्यून सिस्टम को करती है मजबूत कच्ची हल्दी, आज ही करे इसका सेवन 

आयुर्वेद में हल्दी को औषधीय गुणों का खजाना और सबसे सेहतमंद मसाला कहा गया है। आमतौर पर घरों में मसाले के तौर पर इस्तेमाल किए जाना वाला हल्दी पाउडर तो आपने देखा ही होगा। लेकिन आज हम आपको हल्दी पाउडर नहीं बल्कि कच्ची हल्दी के बारे में बताने जा रहे हैं। कच्ची हल्दी दिखने में
 
इम्यून सिस्टम को करती है मजबूत कच्ची हल्दी, आज ही करे इसका सेवन 

आयुर्वेद में हल्दी को औषधीय गुणों का खजाना और सबसे सेहतमंद मसाला कहा गया है। आमतौर पर घरों में मसाले के तौर पर इस्तेमाल किए जाना वाला हल्दी पाउडर तो आपने देखा ही होगा। लेकिन आज हम आपको हल्दी पाउडर नहीं बल्कि कच्ची हल्दी के बारे में बताने जा रहे हैं। कच्ची हल्दी दिखने में अदरक की तरह होती है और स्वाद में कड़वी होती है। हल्दी पाउडर के मुकाबले इसका रंग भी गहरा होता है जिसकी वजह से इसका इस्तेमाल फूड कलर के तौर पर भी किया जाता है। कच्ची हल्दी में कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक और कई तरह के विटामिन पाए जाते हैं जो हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं।

कड़ाके की सर्दी में अपने शरीर को गर्म रखना एक बड़ी चुनौती है। सर्दी में ठंड के कारण अक्सर हम वायरल फीवर, खांसी या सर्दी-जुकाम से पीड़ित हो जाते हैं।अगर आप भी सर्दी के दिनों में इस सब समस्या से पीड़ित है तो हल्दी आपके लिए खास उपयोगी हो सकता है।

सर्दी से राहत पाना चाहते हैं तो आपके रसोई में मसाले में शामिल कच्ची हल्दी न सिर्फ आपको सर्दी से राहत देती है बल्कि कई और बीमारियों में ये रामबाण की तरह इलाज करती है। आइये जानते हैं कैसे करें इस आयुर्वेदिक औषधी का सेवन..

हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। दूध के साथ या रोजाना हल्दी की चाय का सेवन करने से सूखी खांसी में राहत मिलती है। इसके लगातार सेवन से कई तरह की बीमारियां दूर हो जाती है।सर्दी के मौसम में होने वाली सर्दी-जुकाम-खराश जैसी समस्याओं के लिए ये अकेले ही काफी है।

कच्ची हल्दी के फायदे:

शोध में यह बात सामने आई है कि हल्दी में लिपोपॉलीसेच्चाराइड नाम का तत्व होता है इससे शरीर में इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है। यह शरीर को तंगरुस्त ऱकती है। इससे शरीर में मौजूद बैक्टेरिया खत्म हो जाते है।

कच्ची हल्दी देखने में अदरख की तरह होती है। लेकिन इसका रंग गाढ़ा पीलापन लिये ललौंध होता है।इसमें कैंसर से लड़ने के गुण होते हैं। यह हानिकारक रेडिएशन के संपर्क में आने से होने वाली बीमारियों से भी हमारी रक्षा करती है।

हल्दी में दर्द से लड़ने की गजब की क्षमता होती है। इसको पीसकर दूध में मिलाकर पीने से जोड़ो के दर्द से राहत मिलती है। हल्दी में सूजन को रोकने का भी गुण होता है। इसका उपयोग गठिया के रोगी को भी बहुत लाभ मिलता है।

कच्ची हल्की को पीसकर उसे आटे के चेकर के साथ मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे की झाईं मिटती है, और रंग निखरता है। इसको लगाने से चेहरे के दाग धब्बे भी मिट जाते हैं।

कच्ची हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी तत्व भी पाये जाते हैं।जिससे कारण इसके सेवन से गले की खराश भी ठीक हो जाती है।

From Around the web