पवनमुक्तासन रक्तचाप और वजन को नियंत्रित करने में करता है मदद

हेल्थ डेस्क : स्वस्थ और स्वस्थ जीवन के लिए रोज सुबह जल्दी उठकर व्यायाम करना बहुत जरूरी है । स्वस्थ जीवन के लिए योग करना बहुत जरूरी है। योग करने से न केवल आप स्वस्थ रहते हैं बल्कि तुरंत वजन कम करने में भी मदद मिलती है। (पवनमुक्तासन करने से वजन घटाने में मदद मिलती
 
पवनमुक्तासन रक्तचाप और वजन को नियंत्रित करने में करता है मदद

हेल्थ डेस्क : स्वस्थ और स्वस्थ जीवन के लिए रोज सुबह जल्दी उठकर व्यायाम करना बहुत जरूरी है । स्वस्थ जीवन के लिए योग करना बहुत जरूरी है। योग करने से न केवल आप स्वस्थ रहते हैं बल्कि तुरंत वजन कम करने में भी मदद मिलती है। (पवनमुक्तासन करने से वजन घटाने में मदद मिलती है)

यदि आप प्रतिदिन पवनमुक्तासन करते हैं, तो यह आपके फेफड़ों को स्वस्थ रहने में मदद करेगा। यह रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी मदद करता है। पवनमुक्तासन कब्ज, पेट दर्द से संबंधित समस्याओं को दूर करने में मदद करता है। यदि आप प्रतिदिन बीस मिनट पवनमुक्तासन करते हैं, तो आपका वजन तुरंत कम हो जाएगा। यह आसन आपकी सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। इसे करने के लिए आपको जमीन पर सीधे लेट जाना है और दोनों पैरों को छाती के पास लाना है, पैरों को दोनों हाथों से मोड़ना है और गर्दन को ऊपर उठाने का प्रयास करना है। इस आसन को पांच मिनट तक स्थिर रखने का प्रयास करें।

यह आसन आपके पेट पर अतिरिक्त दबाव डालता है। इससे वजन घटाने में मदद मिलती है। शुरुआत में दोनों हाथों और पैरों को एक ही खड़ी रेखा में रखें। फिर दोनों हाथों को ऊपर उठाकर चिपका दें। दोनों पैरों का कुल वजन पंजों पर और शरीर के एक तरफ जितना संभव हो उतना वजन होता है। जितना हो सके खींचने की कोशिश करें। इस बीच आपका बैलेंस बढ़ने की संभावना है। इसके लिए कोई संतुलन नहीं होगा। इसका ख्याल रखें। हालांकि, आसन के दौरान सांस लेने की प्रक्रिया को जारी रखें। प्राणायाम सांस लेने का व्यायाम है।

इस आसन को करने से फेफड़े मजबूत होते हैं। त्रिकोणासन प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है और फेफड़ों की क्षमता को बढ़ाता है। इस आसन को करने से आपको सांस लेने में दिक्कत नहीं होती है। बकासन आपके फेफड़ों को स्वस्थ रखता है। इस आसन को रोजाना करना आपकी सेहत के लिए अच्छा होता है। व्यायाम करने से आपका इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। इस आसन को करने के लिए गहरी सांस लें और दोनों हाथों को पंजों के सामने खड़े होकर जमीन पर रखें। धीरे-धीरे सांस छोड़ें और सामान्य स्थिति में लौट आएं। मत्स्य पालन प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है।

From Around the web