कभी शराब को हाथ नही लगाएंगे अगर जान लीया कि क्या होता है शराब पीने के 1 घंटे बाद शरीर में

शराब पीने से हमेशा सेहत को नुकसान ही होता है। शराब को पीने से न सिर्फ सामाजिक जीवन और आमदनी पर असर पड़ता है, बल्कि यह आपकी सेहत को बहुत बुरी तरह से प्रभावित करती है। अगर आप हफ्ते भर शराब का सेवन करते है तो शायद आपको काफी मज़ा आता होगा लेकिन जब बाद
 
कभी शराब को हाथ नही लगाएंगे अगर जान लीया कि क्या होता है शराब पीने के 1 घंटे बाद शरीर में

शराब पीने से हमेशा सेहत को नुकसान ही होता है। शराब को पीने से न सिर्फ सामाजिक जीवन और आमदनी पर असर पड़ता है, बल्कि यह आपकी सेहत को बहुत बुरी तरह से प्रभावित करती है। अगर आप हफ्ते भर शराब का सेवन करते है तो शायद आपको काफी मज़ा आता होगा लेकिन जब बाद में शराब की वजह से आपके अंग खराब हो चुके होंगे, तब आप समझेंगे। आज हम आपको इस लेख की मदद से बताएंगे की शराब पीने के एक घंटे के अंदर शरीर मे कोनसे बदलाव आते है और हमारे शरीर के साथ क्या-क्या होता है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 

जैसे ही आप शराब पीते है तो मस्तिष्क तक पहुचने में छह मिनट लगते है, अल्कोहल सर में पहुचने के बाद तंत्रिका तंत्र के केंद्र को प्रभावित करती है और साथ ही इंसान सोचने- समझने तथा निर्णय लेने की क्षमता खोने लगता है।

इसको पीने से दिमाग मे डोपामाइन का स्तर भी बढ़ता है और डोपामाइन हमारे भावनात्मक प्रतिक्रियाओं को नियंत्रित करने में काम आता है।

शराब का सबसे ज्यादा असर लिवर पर पड़ता है बहुत

अधिक शराब पीने से लिवर पूरी तरह से खराब हो जाता है।

कभी शराब को हाथ नही लगाएंगे अगर जान लीया कि क्या होता है शराब पीने के 1 घंटे बाद शरीर में

एक अध्ययन में इस बात का खुलासा हुआ कि शराब के सेवन से आंतों के बैक्टीरिया लिवर में चले जाते है,

जिसे लिवर संबंधि समस्याएं होने लगती है।

शराब पीते ही पहले पेट मे जाती है और फिर खून में मिलती है।

इसके शरीर मे जाने से कोर्टिसोल नाम का हॉर्मोन रिलीज होता है जो की तनाव का शुरुआती हॉर्मोन है,

शरीर में ज्यादा मात्रा में कोर्टिसोल होने पर तनाव के साथ मोटापा भी बढ़ता है।

शराब पीने के फौरन बाद खून में शुगर की मात्रा तेजी से कम होती है

जिसका असर 24 घंटे तक रह सकता है

, शुगर की मात्रा कम होने पे आप ऐसा ही महसूस करते है

जैसा आप हैंगओवर के समय करते है इसलिए

मधूमेह के रोगी को इससे दूर रहने की सलाह दी जाती है।

From Around the web