जानिए पूरे दिन नींद आने के पीछे का कारण और उसके लक्षण

अगर किसी कारण से आप रात में पर्याप्त नींद (Sleeplessness) नहीं ले पाते हैं, तो अगले दिन सो जाना स्वाभाविक है। इसीलिए कहा जाता है कि इंसान को रोजाना 7-8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। क्योंकि भरपूर नींद न लेना सेहत के लिए हानिकारक (Harmful) हो सकता है। लेकिन बहुत से लोग हमेशा सोते रहते
 
जानिए पूरे दिन नींद आने के पीछे का कारण और उसके लक्षण

अगर किसी कारण से आप रात में पर्याप्त नींद (Sleeplessness) नहीं ले पाते हैं, तो अगले दिन सो जाना स्वाभाविक है। इसीलिए कहा जाता है कि इंसान को रोजाना 7-8 घंटे की नींद लेनी चाहिए। क्‍योंकि भरपूर नींद न लेना सेहत के लिए हानिकारक (Harmful) हो सकता है। लेकिन बहुत से लोग हमेशा सोते रहते हैं। ये लोग नींद की बीमारी से पीड़ित हो सकते हैं। अगर आपको भी है इस तरह की समस्या, जानिए इसके कारण और इलाज के बारे में…

आप हमेशा क्यों सोते हैं?

एक स्रोत के अनुसार, नींद की कमी को अनिद्रा (sleeplessness) कहा जाता है। लेकिन अगर आपको बहुत ज्यादा नींद आने लगे तो इसे हाइपरसोमनिया कहते हैं। यह एक सामान्य नींद विकार है। एक अध्ययन में पाया गया कि लगभग 20 प्रतिशत युवाओं को पर्याप्त नींद नहीं मिलती है। यह उनमें विकार पैदा करता है।

अनिद्रा (sleeplessness) भी अधिक नींद का कारण बन सकती है। अधिक नींद आने के और भी कई कारण होते हैं, जैसे…

– पर्याप्त नींद नहीं लेना

– नशीली दवाओं, शराब या सिगरेट का प्रयोग

– शारीरिक गतिविधि की कमी

– अवसाद

– दिन भर तंद्रा

– स्लीप एप्निया

अत्यधिक नींद आने के लक्षण

– आपको सुबह उठने में परेशानी होती है।

-ज्यादातर बार सो जाने के बाद भी।

– आपकी नींद पूरी नहीं हुई है।

– दिन में काम करते समय थकान महसूस होना।

– किसी भी चीज पर फोकस नहीं कर पाता।

– शरीर में हमेशा तंद्रा बनी रहती है।

– पहले के मुकाबले फिजिकल एक्टिविटी (Physical Activity) में कमी आई है।

– मन हमेशा व्याकुल रहता है।

यदि आपके पास इनमें से कोई भी लक्षण है, तो संभव है कि आप अत्यधिक नींद की समस्या या हाइपरसोमनिया विकार से भी पीड़ित हैं। इसके लिए आप डॉक्टर से भी सलाह ले सकते हैं।

इस तरह से ज्यादा सोने से बचें

हाइपरसोमनिया विकार को रोकने के लिए पर्याप्त नींद आवश्यक है। अगर आप पर्याप्त और चैन की नींद लेंगे तो आप इस समस्या से बच सकते हैं।

1. पॉलीसोम्नोग्राफी परीक्षण: यह परीक्षण नींद के दौरान किसी व्यक्ति की मस्तिष्क तरंगों, ऑक्सीजन स्तर और शरीर की गति और नींद के चक्र को रिकॉर्ड कर सकता है। यह किसी को भी उनकी नींद की गुणवत्ता के बारे में बताता है। अगर आपको ज्यादा नींद आने में परेशानी होती है तो आप यह टेस्ट करवा सकती हैं और डॉक्टर से सलाह ले सकती हैं।

2. स्वस्थ और संतुलित आहार लें: रात को हल्का भोजन करें ताकि आपको रात को अच्छी नींद आ सके और अगले दिन तरोताजा उठ सकें। दिन में स्वस्थ भोजन करें।

3. सोते समय हल्के कपड़े पहनें : सोते समय आपको हल्के कपड़े पहनने चाहिए। यह आपको बेहतर नींद में मदद करेगा और आप अगले दिन थकान और सुस्ती महसूस नहीं करेंगे।

एक रिपोर्ट के अनुसार अच्छी नींद लेने से आपकी मानसिक शक्ति और सतर्कता बढ़ती है। साथ ही स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं कम हो रही हैं। इसलिए हर रात कम से कम 8 घंटे की नींद जरूर लें। इस तरह आपको हाइपरसोमनिया डिसऑर्डर जैसी समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा।

From Around the web