जानिए गर्भावस्था के दौरान कराएं जाने वाले महत्वपूर्ण टेस्ट के बारे में

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को कई बदलावों से गुजरना पड़ता है और ऐसे में मां व बच्चे की सुरक्षा के लिए डॉक्टर विभिन्न तरह के टेस्ट करवाते हैं ताकि यह जाना जा सके कि गर्भ में पल रहे भ्रूण का विकास उचित प्रकार से हो रहा है या नहीं। ऐसे में जो कुछ प्रमुख
 
जानिए गर्भावस्था के दौरान कराएं जाने वाले महत्वपूर्ण टेस्ट के बारे में

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती महिला को कई बदलावों से गुजरना पड़ता है और ऐसे में मां व बच्चे की सुरक्षा के लिए डॉक्टर विभिन्न तरह के टेस्ट करवाते हैं ताकि यह जाना जा सके कि गर्भ में पल रहे भ्रूण का विकास उचित प्रकार से हो रहा है या नहीं। ऐसे में जो कुछ प्रमुख टेस्ट किए जाते हैं, उनकी जानकारी यहां दी गई है। आइएजानते हैं मां के लिए कौन-कौन से टेस्ट जरूरी है।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

गर्भावस्था के दौरान कराए जाने वाले टेस्ट

अगर आप पहले से गाइनिकॉलजिस्ट से कंसल्ट नहीं कर रहे हैं तो प्रेग्नेंसी का पता चलते ही किसी अच्छे गाइनिकॉलजिस्ट के पास रजिस्ट्रेशन कराएं। मां बनने वाली महिला की सेहत के हिसाब से डॉक्टर अलग-अलग तरह के टेस्ट करते हैं लेकिन फिर भी हीमोग्लोबिन, कैल्शियम, ब्लड शुगर, यूरिन और एचआईवी टेस्ट यह ज़रूर करवाना चाहिए। यह टेस्ट हर तीन महीने में कराए जाते हैं।

कोई परेशानी नहीं हो तो अल्ट्रासाउंड आमतौर पर तीन बार कराया जाता है। दूसरे महीने में बच्चे की धड़कन जानने के लिए, चौथे महीने में बच्चे का विकास देखने के लिए और आखिरी महीने में बच्चे की स्थिति देखकर डिलीवरी प्लान करने के लिए। अगर डॉक्टर को जरूरी लगता है, तो वह इस दौरान कभी भी अल्ट्रासाउंड करा सकते है।

जानिए गर्भावस्था के दौरान कराएं जाने वाले महत्वपूर्ण टेस्ट के बारे मेंपहले से तीसरे महीने में टेस्ट

शुरुआती महीनों में मिर्गी, हाइपोथायरॉइड और थैलीसीमिया के लिए भी जांच कराई जाती है। अगर पैरंट्स में थैलीसीमिया के लक्षण होते हैं तो बच्चे में इससे पीड़ित होने की आशंका 25 फीसदी बढ़ जाती है। जांच में अगर बच्चा इन्फेक्टिड पाया जाता है तो उसे अबॉर्ट करना ही बेहतर होता है।

शुरू के तीन महीनों में मासिक जांच अधिकतर की जाती है। कोई परेशानी होने पर 15 दिनों के भीतर भी जांच की जाती है। बच्चे के 28 हफ्ते का होने पर दो हफ्ते में एक बार चेकअप कराना जरूरी होता है।

चौथे से छटे महीने में टेस्ट

-चौथे से पांचवें या पांचवें से छठे महीने में मां को टिटनेस का टीका लगाया जाता है।

  • सोनोग्राफी खुद न कराएं। जब डॉक्टर बताए, तभी सोनोग्राफी कराएं। हालांकि इससे बच्चे को कोई नुकसान नहीं होता है लेकिन इस दौरान एक्स-रे से ज़रूर बचना चाहिए क्योंकि ये किरणें बच्चे को नुकसान पहुंचा सकती हैं।

From Around the web