अगर आप फूंक मारकर बच्चों को खाना खिला रहे हैं तो यह खबर आपके लिए जरूरी है

अगर आपके बच्चे को गर्म खाना फूंकने की आदत है, तो यह भारी हो सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि यह आदत बच्चों के दांतों के लिए हानिकारक थी। इसलिए अगर आप बच्चों के दांतों को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो खाने पर फूंक मारें नहीं। माता-पिता अपने बच्चे की परवरिश को लेकर
 
अगर आप फूंक मारकर बच्चों को खाना खिला रहे हैं तो यह खबर आपके लिए जरूरी है

अगर आपके बच्चे को गर्म खाना फूंकने की आदत है, तो यह भारी हो सकता है। एक अध्ययन में पाया गया कि यह आदत बच्चों के दांतों के लिए हानिकारक थी। इसलिए अगर आप बच्चों के दांतों को स्वस्थ रखना चाहते हैं, तो खाने पर फूंक मारें नहीं।

माता-पिता अपने बच्चे की परवरिश को लेकर सावधान हैं। माँ घास को धौंकनी से उड़ा देती है ताकि बच्चे को दूध पिलाते समय काटा न जाए। हालांकि, यह आदत बच्चे के दांतों को प्रभावित कर सकती है। दांत निकलने से पहले ही बच्चे के दांतों की सेहत खराब हो सकती है। एक ऑस्ट्रेलियाई अध्ययन के अनुसार, कई शिशुओं को वायरस स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स उनकी मां से मिलता है। जब माता-पिता भोजन पर फूंक मारकर बच्चे को खिलाते हैं, तो माता-पिता के मुंह में कीटाणु भोजन पर लग जाते हैं और भोजन बच्चों के मुंह में प्रवेश कर सकता है। इतना ही नहीं, लेकिन एक भी चम्मच से खाने और बच्चे के होंठ चूमने के बाद, इन कीटाणुओं बच्चे के मुंह में मिल सकता है।

इस अध्ययन के अनुसार, आपके दांतों में कीटाणुओं को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फ़नल के माध्यम से पारित किया जा सकता है। यदि आपके दांतों में कैविटी हैं और आप अपने बच्चे के मुंह में भोजन भर रहे हैं, तो आपके मुंह में कीटाणु आपके बच्चे के मुंह में जाने की अधिक संभावना है। जब ये कीटाणु संपर्क में आते हैं, तो बच्चे के दांतों तक पहुंचने से पहले ही उसके दांतों पर प्लाक बनना शुरू हो जाता है, जिससे बच्चे के दांतों में कैविटी हो जाती है। कीटाणुओं को दांतों में प्रवेश करने में लगभग पांच से छह महीने का समय लगता है। वहीं, दांत निकलने की उम्र में ही बच्चों के दांतों पर कीटाणु लग जाते हैं।

क्या ख्याल रखना है

– बच्चे को दूध पिलाते समय उसे पंखे के नीचे या अलग तरीके से बिना फूंक मारकर ठंडा करें।

– जिस चम्मच से आप बच्चे को भरती हैं, उसी चम्मच से न खाएं। साथ ही एक ही गिलास से पानी न पिएं।

– खाने के बाद बच्चे का मुंह गीले कपड़े से पोंछ लें।

– रोजाना अपने दांतों के साथ-साथ बच्चे की जीभ भी साफ करें

From Around the web