धूम्रपान की वजह से फेफड़े अगर हो गए है खराब तो हल्दी के हैरान कर देने वाले हैं फायदे जरुर देखे

पर्यावरण में वायु प्रदूषण के लेवल में प्रतिवर्ष इजाफा होता है और उसी हिसाब से फेफड़े की बीमारियों में भी बढ़ोतरी होती है फेफड़ो की बीमारियों की वजह धूम्रपान भी है इसकी वजह से लंग्स के खराब होने की समस्या भी होती है अगर आप धुर्पान छोड़ते है तो लंग्स को मजबूत बनाने के लिए
 

पर्यावरण में वायु प्रदूषण के लेवल में प्रतिवर्ष इजाफा होता है और उसी हिसाब से फेफड़े की बीमारियों में भी बढ़ोतरी होती है फेफड़ो की बीमारियों की वजह धूम्रपान भी है इसकी वजह से लंग्स के खराब होने की समस्या भी होती है अगर आप धुर्पान छोड़ते है तो लंग्स को मजबूत बनाने के लिए उसे सही तरिके से साफ़ करना काफी जरूरी होता है 

धूम्रपान की वजह से फेफड़े अगर हो गए है खराब तो हल्दी के हैरान कर देने वाले हैं फायदे जरुर देखे

1 गाजर का रस :नास्ते और दोपहर के भोजन के दौरान गाजर का रस कम से कम 300 मिलीमीटर पिए ताकि फेफड़ो की सफाई हो सके आपको बता दे की गाजर का रस बीटा केरोटीन का एक अच्छा स्रोत है एक प्रकार का विटामिन ए ,,जो सबसे शक्तिशाली एंटीओक्सिडेंट में से एक है विटामिन ए आंख की सतह रक्षा में मदद करता है और मजबूत विजय में योगदान देता है।

इंडियन बैंक ने निकली नौकरियां – देखें यहाँ पूरी डिटेल 

RSMSSB Patwari Recruitment 2020 : 4207 पदों पर भर्तियाँ- अभी आवेदन करें

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

2 ग्रीन टी :ग्रीन टी में शक्तिशाली एंटीओक्सिडेंट है जो कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य को बढ़ावा देने, विभिन्न कैंसर से बचाने और हमारे फेफड़ों से तरल पदार्थ हटाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं ग्रीन टी में मौजूद जड़ी बुटिया हमारे फेफड़ो की लाइनिंग से बलगम को ढीला करने मदद करती है प्रकृति में एंटीमाइक्रोबायल होती है।

3 हल्दी :भारत में हल्दी के औषधीय गुणों का प्रयोग पुराने जमाने किया जाता रहा है हल्दी जहा एक और से खाने का स्वाद और रंग बढ़ा देती है वही इसका उपयोग सौंदर्य वृद्धि और त्वचा की समस्याओ को दूर करने में भी किया जाता है हल्दी को हम ‘गोल्डन स्पाइस’ के रूप में भी जानते हैं हल्दी के एंटी इन्फ्लेटरी गुण के कारन यह हमारे फेफड़ो को साफ़ करने मदद करता है।

4 लहसून :इसमें एलिसिन नमक एक योगिक होता है जो एक शक्तिशाली एंटीबायोटिक एजेंट के रूप में कार्य करता है और हमारे फेफड़ो को छिपाने वाले श्वषन संक्रमण से निपटने में मदद करता है यह सूजन को कम करने , में सुधार करने और फेफड़ो के कैंसर को कम करने में भी मदद करता है।

 

 

 

From Around the web