गर्म या ठंडा? इनमें से दूध कौन सा पीना फायदेमंद होता है, जाने ये विशेष सलाह

दूध को सुपरफूड माना जाता है। दूध शरीर को कैल्शियम, पोटेशियम, विटामिन डी प्रदान करता है। कुछ लोग ठंडा दूध पीना पसंद करते हैं तो कुछ लोग गर्म दूध पीना पसंद करते हैं। अभी भी गर्म या ठंडा? इनमें से दूध कौन सा पीना फायदेमंद होता है। क्या दोनों प्रकार के दूध में पोषक तत्वों
 

दूध को सुपरफूड माना जाता है। दूध शरीर को कैल्शियम, पोटेशियम, विटामिन डी प्रदान करता है। कुछ लोग ठंडा दूध पीना पसंद करते हैं तो कुछ लोग गर्म दूध पीना पसंद करते हैं। अभी भी गर्म या ठंडा? इनमें से दूध कौन सा पीना फायदेमंद होता है। क्या दोनों प्रकार के दूध में पोषक तत्वों में कम या ज्यादा अंतर होता है? या वे अच्छे से रहते हैं? आपके पास ऐसे कई सवाल हो सकते हैं। यह है विशेषज्ञों द्वारा दी गई विशेष सलाह।

दूध ठंडा है या गर्म यह पूरी तरह से मौसम पर निर्भर करता है। दिन में या गर्मी के दिनों में ठंडा दूध पीना ज्यादा फायदेमंद होता है। यह शरीर की गर्मी को कम करने में मदद करता है। शरीर अंदर से ठंडा हो जाता है। अगर आप सर्दी के दिनों में रात को दूध पीने जा रहे हैं तो इसे गर्मागर्म पिएं। ऐसा इसलिए क्योंकि इन दिनों गर्म दूध पीने से शरीर की गर्मी बरकरार रहती है और सर्दी से बचाव होता है।

गर्म दूध पचने में आसान होता है। गर्म दूध के सेवन से दस्त, पेट फूलना या पाचन संबंधी अन्य रोग नहीं होते हैं। गर्म दूध में ट्रिप्टोफैन और मेलाटोनिन होता है। दूध को गर्म करने से उसमें मौजूद अमीनो एसिड सक्रिय हो जाते हैं। इससे रात में गर्म दूध पीने के बाद चैन की नींद आती है।

ठंडे दूध में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है। इसलिए ठंडा दूध पीने से पेट दर्द और एसिडिटी से राहत मिलती है। इसके अलावा दूध में इलेक्ट्रोलाइट्स की मौजूदगी शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद करती है। इसलिए रात को ठंडा दूध न पिएं। इससे सर्दी और फ्लू हो सकता है।

कुछ लोग सोचते हैं कि दूध पीने से वजन बढ़ता है। लेकिन ये गलत है. दूध में कैल्शियम मेटाबॉलिज्म को बढ़ाता है। इससे शरीर तेजी से कैलोरी बर्न करता है। ठंडा दूध पीने से भी पेट लंबे समय तक भरा रहता है। भूख नहीं है।

एक गिलास ठंडा दूध पीने से डिहाइड्रेशन का खतरा कम होता है। नाश्ते में ठंडा दूध पीना ज्यादा फायदेमंद होता है। लेकिन अगर आप सर्दी-जुकाम से परेशान हैं तो ठंडा दूध पीने से बचें।

गर्म दूध पीना फायदेमंद होता है क्योंकि यह पचने में आसान होता है। अगर आप ठंडा दूध पीना चाहते हैं तो उसमें अनाज और कॉर्नफ्लेक्स मिलाएं। हालांकि, अगर आप लैक्टोज इनटॉलेरेंस से पीड़ित हैं तो ठंडा दूध पीने से बचें। दूध को उबालने से उसमें मौजूद लैक्टोज टूट जाता है इसलिए गर्म दूध पीना सबसे अच्छा तरीका है। नहीं तो अपच के कारण सूजन या दस्त होने का खतरा रहता है।

From Around the web