ग्रीन टी और कॉफी से घटेगा इन रोगों का ज्यादा खतरा, जानिए कैसे ?

आप टाइप -2 डायबिटीज की समस्या से जूझ रहे हैं तो आपके लिएएक खुशखबरी है। रोजाना ग्रीन टी और कॉफी का सेवन करने से टाइप -2 डायबिटीजसे पीड़ित लोगों में किसी भी कारण से मौत होने का खतरा कम होगा जर्नल बीएमजे ओपन डायबिटीज प्रकाशित एक हालिया शोध में यह खुलासा हुआ जापान में किए
 

आप टाइप -2 डायबिटीज की समस्या से जूझ रहे हैं तो आपके लिएएक खुशखबरी है। रोजाना ग्रीन टी और कॉफी का सेवन करने से टाइप -2 डायबिटीजसे पीड़ित लोगों में किसी भी कारण से मौत होने का  खतरा कम होगा जर्नल बीएमजे ओपन डायबिटीज प्रकाशित एक हालिया शोध में यह खुलासा हुआ जापान में किए गए शोध में यह पता चला है कि रोजाना चार कप ग्रीन टी औरदोकपकॉफी कासेवन करने से डायबिटीज रोगियों मेंमौत का खतरा अगले पांच साल के लिए 63 फीसदी तक कम होता है ।

इन रोगों का ज्यादा खतरा

टाइप -2 डायबिटीज से जूझ रहे लोगों में कुछ बीमारियां होने का खतरा ज्यादा होता है इनमें खन की सप्लाई से संबंधित, डिमेंशिया , कैसर और फ्रैक्चर होने का खतरा फ्लेवनॉल का शामिल है । पूर्व के शोधों में दर्शाया गया है कि

रोजाना ग्रीन टी और कॉफी का सेवन करने से सेहत को काफी फायदा होता है ।

ऐसे किया शोध : जापानी शोधकर्ताओंनेडायबिटीजसे पीड़ित लोगों परशोधकियाताकि उनपरजीन टी और कॉफी का प्रभाव देखा जा सके । उन्होंने 4923 जापानी लोगों पर अध्ययन किया इनकी उम्र 66 साल के आसपास थी  इन्होंने

58 खाने की चीजों से संबंधित एक प्रश्नोत्तरी भरी । इसके अलावा उनसे कसरत , धूमपान , शराबपीने की लत और नींद को लेकर भी सवाल पूछे गए  प्रतिभागियों की लंबाई , वजन , रक्तचाप और यूरिन के नमूने लिए गए । अगले

कुछ सालों तक इन प्रतिभागियों की निगरानी की गई । इनमें से 309 लोगों की मौत हो गई । इनमें से 114 लोगों की मौत कैसर और 76 की हदयरोगों से हुई ।

कितना कम हुआ खतरा

रोजाना एक कप ग्रीन टी का सेवन करने से डायबिटीज रोगियों में मौत होने का खतरा 15 % कम पाया गया । वहीं , दो से तीन कप ग्रीन टी पीने से वह खतरा 27 % कमहुआ । वहीं रोजाना एक कप कॉफी पीने से मौत का खतरा 12 %

और दो कप पीने से 40 % तक कम होता है । रोजाना दो से तीन कप ग्रीन टी और दो कप कॉफी का सेवन करने से खतरा 51 फीसदी कम पाया गया ।

फ्लेवनॉल का सेवन करने से कम होगा ब्लड प्रेशर

जो लोग इलेवनॉल से भरपूर आहारका सेवन करते हैं, उनमें हाई ब्लड प्रेशर की समस्या कम होती है। एक हालिया | अध्ययन में यह बात सामने आई है। हालिया अध्ययन में पाया गया है कि चाय , सेब और बैरीज में पाया जाने वाला फ्लेवनॉल ब्लड प्रेशर को कम करने में मददगार है । इंग्लैंड के शोधकर्ताओं ने वहां 25,000 लोगों के आहारका अध्ययन किया उन्होंने लोगों के आहार की जो लोग इलेवनॉल से भरपूर आहारका तुलना उनके ब्लड प्रेशर के साथ की  सेवन करते हैं , उनमें हाई ब्लड प्रेशर जिसके कारण हृदय संबंधी रोगों का की समस्या कम होती है ।

एक हालिया खतरा रहता है। वहीं इस अध्ययन के अध्ययन में यह बात सामने आई है जरिए आहार में मौजूद खास यौगिक के हालिया अध्ययन में पाया गया है सेवन को मापने के लिए किया गया कि चाय , सेब और बैरीज में पाया चाव में फ्लेवोल की मात्रा काफी ज्यादा जाने वाला फ्लेवनॉल ब्लड प्रेशर को होती है 100 ग्राम चाय में 10 कम करने में मददगार है मिलीग्राम फ्लेवनॉल पाया जाता है। चाय इंग्लैंड के शोधकर्ताओं ने वहां फ्लेवनॉल का सबसे अच्छा स्रोत है ।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन 1000 से भी ज्यादा रेलवे की सभी नौकरियों की सही जानकारी पाने के लिए यहाँ क्लिक करें 
अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप-  Download Now

From Around the web