कैल्शियम की कमी को दूर करने के लिए के लिए रागी का सेवन

 
Consumption of ragi to overcome calcium deficiency
Consumption of ragi to overcome calcium deficiency

कैल्शियम हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है। कैल्शियम की कमी को दूर करने के लिए दूध और डेयरी उत्पादों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। लेकिन अगर आप दूध नहीं पीते हैं या डेयरी उत्पादों के सेवन से कोई समस्या है तो आपको रागी के आटे को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।

रागी एक गैर-डेयरी उत्पाद है जो कैल्शियम से भरपूर होता है। आप रागी के आटे को गेहूं के आटे में 7:3 के अनुपात में मिलाकर खाने में इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा इसे अंकुरित होने के बाद भी खाया जा सकता है। प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन, फाइबर, कार्बोहाइड्रेट और कई अन्य पोषक तत्वों से भरपूर रागी सेहत को कई तरह से फायदा पहुंचाता है। जानें इसके अनोखे फायदे।

Consumption of ragi to overcome calcium deficiency

रागी के 5 अद्भुत फायदे

ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम

रागी में किसी भी अन्य अनाज की तुलना में अधिक कैल्शियम होता है। इस वजह से यह हड्डियों के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। अगर इसे नियमित रूप से आहार में शामिल किया जाए तो यह शरीर को ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे से बचाता है और दांतों को मजबूत बनाता है।

कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए

अगर आपके शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल का स्तर काफी बढ़ गया है तो रागी आपके लिए बहुत मददगार है। कोलेस्ट्रॉल से शरीर में हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। रागी में आहार फाइबर और फाइटिक एसिड होता है जो शरीर से खराब कोलेस्ट्रॉल को बाहर निकालने में मदद करता है।

मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद

रागी में मधुमेह विरोधी गुण होते हैं, इसलिए यह मधुमेह रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। रागी के नियमित सेवन से शरीर में ग्लूकोज के बढ़ते स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है।

एनीमिया को रोकता है

भारत में ज्यादातर महिलाएं एनीमिया से पीड़ित हैं। रागी में भरपूर मात्रा में आयरन होता है, ऐसे में इसके सेवन से शरीर में खून तेजी से बनता है और एनीमिया जैसी समस्या दूर होती है।

रागी तनाव को कम करता है

रागी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है जो तनाव को कम करने में मदद करता है। तनाव की समस्या आजकल एक बहुत ही आम समस्या हो गई है। ऐसे में रागी को नियमित रूप से आहार में शामिल करना चाहिए।

From Around the web