नीम की पत्तियों का सेवन करने से कई बीमारियों से मिलता है छुटकारा

नीम भारतीय मूल का एक पूर्ण पतझड़ वृक्ष है। यह सदियों से समीपवर्ती देशों- पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, म्यानमार (बर्मा), थाईलैंड, इंडोनेशिया, श्रीलंका आदि देशों में पाया जाता रहा है। लेकिन विगत लगभग डेढ़ सौ वर्षों में यह वृक्ष भारतीय उपमहाद्वीप की भौगोलिक सीमा को लांघ कर अफ्रीका, आस्ट्रेलिया, दक्षिण पूर्व एशिया, दक्षिण एवं मध्य अमरीका
 
नीम की पत्तियों का सेवन करने से कई बीमारियों से मिलता है छुटकारा

नीम भारतीय मूल का एक पूर्ण पतझड़ वृक्ष है। यह सदियों से समीपवर्ती देशों- पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, म्यानमार (बर्मा), थाईलैंड, इंडोनेशिया, श्रीलंका आदि देशों में पाया जाता रहा है। लेकिन विगत लगभग डेढ़ सौ वर्षों में यह वृक्ष भारतीय उपमहाद्वीप की भौगोलिक सीमा को लांघ कर अफ्रीका, आस्ट्रेलिया, दक्षिण पूर्व एशिया, दक्षिण एवं मध्य अमरीका तथा दक्षिणी प्रशान्त द्वीपसमूह के अनेक उष्ण और उप-उष्ण कटिबन्धीय देशों में भी पहुँच चुका है।

नीम एक ऐसी आयुर्वेद औषधि की तरह है, जिसका सेवन करने से खून तो साफ होता ही है साथ ही रोग भी दूर भाग जाते है। यह कड़वा होने के साथ साथ फायदेमंद भी होता है। नीम के अंदर उनकी पत्तियों, छाल और उसकी लकडिय़ा काम में ली जाती है।

इसे यूज करने के कई तरीकें होते है। नीम की पत्तियां खाने में बहुत कड़वी होती है, लेकिन ये हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत गुणकारी होती है। अगर किसी के घर के आगे नीम का पेड़ है तो वो लोग भाग्यशाली होते हैं। बारिश के दौरान हमें कई इंफेक्शन, त्वचा संबधित बीमारियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में आसानी से पाया जाने वाले ये नीम का पेड़ हमारे लिए गुणकारी हो सकता है। तो आइए जानते है किन बीमारियों में ये हमारे लिए लाभदायक हो सकता है।

नीम की पत्तियां हमारे चेहरे पर होने वाली फुंसियां, कील और मुॅंहासे के लिए गुणकारी हो सकती है। नीम की पत्तियों में पाएं जाने वाला एंटी—बैक्टीरियल गुण हमारी त्वचा के लिए बेहद फायदेमंद होते है।इससे डैंड्रफ़ और झड़ते बालों की समस्या को भी कम किया जा सकता है।

नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उसे ठंडा करके सिर धोएगें तो इन सभी प्रॉब्लम्स से छुटकारा मिलेगा। अगर किसी के सिर में जू हो जाती है तो भी ये फायदा करता है। इससे फोडे, पुंसी और कई तरह की स्किन एलर्जी में काम लिया जा सकता है इसके लिए आप नीम की छाल को घिस कर उसे उस स्थान पर लगाए जहां आपको प्रॉब्लम है जल्द ही आप इसके रिजल्ट देखेगें।

From Around the web