कैंसर के लिए फायदेमंद है बेल, जानिये और किन किन बिमारियों में लाभ देता है बेल

आयुर्वेद : पेट की बीमारियों में सबसे ज्यादा राहत देने वाला बेल ही है। कहते हैं बीमारियों को जड़ से खत्म करने की क्षमता होने की वजह से बेल को बिल्व कहते हैं। बेल के गीले गूदे को दिल कर कटी और सूखे गूदे को बेलगिरी कहते हैं। जिन महिलाओं की फैमिली हिस्ट्री ब्रेस्ट ब्रेस्ट
 
कैंसर के लिए फायदेमंद है बेल, जानिये और किन किन बिमारियों में लाभ देता है बेल

आयुर्वेद : पेट की बीमारियों में सबसे ज्यादा राहत देने वाला बेल ही है। कहते हैं बीमारियों को जड़ से खत्म करने की क्षमता होने की वजह से बेल को बिल्व कहते हैं। बेल के गीले गूदे को दिल कर कटी और सूखे गूदे को बेलगिरी कहते हैं।

  • जिन महिलाओं की फैमिली हिस्ट्री ब्रेस्ट ब्रेस्ट कैंसर की रही है । उनको रोजाना बेल का रस पीना चाहिए । यह ब्रेस्ट कैंसर को होने से रोकता है ।
  • बेल के कच्चे गूदे, नीलगिरी पत्ते और छाल का पाउडर बनाकर विभिन्न तकलीफों में राहत पाने के लिए उपयोग किया जाता है। बेल का गूदा खुशबूदार और ठंडी तासीर वाला होता है। इसीलिए इसे शीतल फल भी कहते हैं।
  • दवा के रूप में इसका सेवन करने के लिए इसका कच्चा फल उपयोग में लाया जाता है। इस का कच्चा फल आसानी से पच जाता है । पका फल मीठा थोड़ा कसैला मगर कई बिमारियों की समस्या से छुटकारा दिलाने वाला होता है। इसके नियमित सेवन से एसिडिटी नहीं रहती।

कैंसर के लिए फायदेमंद है बेल, जानिये और किन किन बिमारियों में लाभ देता है बेल

  • बेल के कोमल पत्तों को पीसकर लेने या उसके पाउडर के सेवन से बुखार कम होता है।
  • इसके पत्तों का रस पीने से सिर दर्द दूर होता है। जुखाम खांसी और स्वास्थ संबंधी परेशानियों से भी छुटकारा मिलता है। इससे वात और कफ कंट्रोल में रहता है।
  • इसका प्रतिदिन सेवन डायबिटीज में भी लाभकारी है यह शुगर का स्तर कंट्रोल में रखता है।
  • बेलपत्र के सेवन से ना सिर्फ हार्ट की समस्याएं कम होती हैं बल्कि ब्रेन की नसें बूस्ट होती हैं। इससे शरीर के अंदर से पूरी तरह साफ और स्वस्थ होता है और ताकतवर होता है इसे लेने से कोई रिएक्शन या साइड इफेक्ट नहीं होता है।

कैंसर के लिए फायदेमंद है बेल, जानिये और किन किन बिमारियों में लाभ देता है बेल

  • इसका नियमित सेवन करने से शरीर सुढ़ोल होता है और अतिरिक्त फैट कम हो जाता है इसके साथ ही मन और शरीर को नई ऊर्जा प्राप्त होती है।
  • बेल को किसी ना किसी रूप में खाने से वेट कंट्रोल और ख़राब कोलेस्ट्रॉल कम होता है। यह कोलेस्ट्रॉल के स्तर को संतुलित रखता है।
  • ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में भी यह बड़ी भूमिका निभाता है। इसके पत्तों को पानी में अच्छी तरह उबालकर छान लें और प्रतिदिन इस का ताजा पानी में उबाल कर पिए।
  • अस्थमा का अटैक और दिल की असामान्य धड़कन को नियंत्रित करने के लिए बेल के पेड़ की जड़ का काढ़ा फायदेमंद है ।
  • बेल के सेवन से लीवर भी दुरुस्त होता रहता है क्योंकि यह थियामिन रियोफ्लेविन और बीटा कैरोटीन का श्रोत्र है ख़राब लिवर को बेल स्वस्थ कर सकता है ।

दोस्तों आज के इस पोस्ट के बारे में आपके क्या विचार हैं। कृपया कमेंट में बताएं अगर आगे भी आप ऐसी पोस्ट दोबारा देखना चाहते हैं तो हमें ज़रूर फॉलो करें।

From Around the web