बुढ़ापा हो या जवानी , कमज़ोर हड्डियों को ऐसे करें मज़बूत , करें ये आसन

हड्डियों का कमजोर होना उम्र से जुड़ी परेशानी तो है ही, लेकिन अब यह समस्या कम उम्र में भी देखने को मिल रही है। वैसे तो योग व्यायाम से हड्डियां मजबूत होती है। लेकिन कुछ ऐसे योगासन है जिनसे हड्डियों को अधिक मजबूती मिलती है जानते हैं इनके बारे में – भुजंगासन इसे कोबरा पोज
 
बुढ़ापा हो या जवानी , कमज़ोर हड्डियों को ऐसे करें मज़बूत , करें ये आसन

हड्डियों का कमजोर होना उम्र से जुड़ी परेशानी तो है ही, लेकिन अब यह समस्या कम उम्र में भी देखने को मिल रही है। वैसे तो योग व्यायाम से हड्डियां मजबूत होती है। लेकिन कुछ ऐसे योगासन है जिनसे हड्डियों को अधिक मजबूती मिलती है जानते हैं इनके बारे में –

भुजंगासन

बुढ़ापा हो या जवानी , कमज़ोर हड्डियों को ऐसे करें मज़बूत , करें ये आसन

इसे कोबरा पोज भी करते हैं। सूर्य नमस्कार में ऐसे पोज करते हैं. इसे रीड की हड्डी पर असर पड़ता है। इससे हड्डियों की मजबूती के साथ लोअर – बैक सपोर्ट भी अच्छा हो जाता है। इस आसन से कलाइयों की हड्डियों में भी मजबूती आती है और उंगलियां गठिया परेशानी है तो आराम मिलता है।

सेतुबंध आसन

बुढ़ापा हो या जवानी , कमज़ोर हड्डियों को ऐसे करें मज़बूत , करें ये आसन

इससे मुख्य रूप से गर्दन, कमर और घुटनों की हड्डियों को मजबूती मिलती है। इसे नियमित करने से मांसपेशियों में लचीलापन और मजबूती आती है. कोशिकाओं का विकास अच्छे से होता है। कमर पर अधिक जोर पड़ता है। जिन्हें सवाईकल, कमर दर्द है इस आसन को ना करें।

अधोमुख शवासन

आसन में पेड़, कमर, रीड की हड्डियों पर जोर पड़ता है. लेकिन सभी हड्डियों को मजबूती मिलती है।

अधोमुख शवासन करने से गठिया जैसे रोगों में लाभ मिलता है।

जिन्हें गठिया की शुरुआत हो रही है वे भी आसन को करते हैं ना मिलेगा।

आसन करते समय चक्कर आता है तो विशेषज्ञ की सलाह से ही करें।

उत्कटासन

बुढ़ापा हो या जवानी , कमज़ोर हड्डियों को ऐसे करें मज़बूत , करें ये आसन

इसे चेयर पोज भी कहते हैं। इसमें कुर्सी पर बैठने जैसा पॉज लगा होता है.

इससे पूरे शरीर की मांसपेशियों और हड्डियां मजबूत होती है। इससे सहनशक्ति बढ़ती है।

सीना और कंधा भी मजबूत होता है।

वृक्षासन

बुढ़ापा हो या जवानी , कमज़ोर हड्डियों को ऐसे करें मज़बूत , करें ये आसन

इसमें दोनों हाथों को जोड़कर एक पैर पर खड़ा होना होता है।

जैसा कि चित्र में दिखाया गया है। इसमें रीड, कमर और पैर की हड्डी भी मजबूत होती है। इससे एकाग्रता भी बढ़ती है।

From Around the web