आप भी हो चाय पीने के शौक़ीन? तो ध्यान से पढ़ें इस चीज़ को वरना होगा चाय पीना खतरनाक

जो लोग चाय पीने के शौक़ीन हैं और घर के बाहर या घर में भी कागज़ के कप्स में चाय पीते हैं वो थोड़ा सावधान हो जाएँ , कागज के बने एक बार इस्तेमाल करने योग्य कपों से चाय पीना सेहत के लिए हानिकारक है। अगर कोई व्यक्ति उनमें दिन में तीन बार चाय पीता है
 
आप भी हो चाय पीने के शौक़ीन? तो ध्यान से पढ़ें इस चीज़ को वरना होगा चाय पीना खतरनाक

जो लोग चाय पीने के शौक़ीन हैं और घर के बाहर या घर में भी कागज़ के कप्स में चाय पीते हैं वो थोड़ा सावधान हो जाएँ , कागज के बने एक बार इस्तेमाल करने योग्य कपों से चाय पीना सेहत के लिए हानिकारक है। अगर कोई व्यक्ति उनमें दिन में तीन बार चाय पीता है तो उसके शरीर में प्लास्टिक के 75,000 सूक्ष्म कण चले जाते हैं। आईआईटी खड़गपुर के एक अध्ययन में यह बात सामने आई है। इन कपों में हाइड्रोफोबिक फिल्म की एक परत चढ़ाई जाती है, जो मुख्तय: प्लास्टिक की बनी होती है। गर्म पानी डालने पर यह परत 15 मिनट के भीतर गलने लगती है। बहुत सारे लोगों को प्लास्टिक के कपों से नुकसान के बारे में पता होगा लेकिन कागज़ से बने कप्स भी नुकसानदायक हो सकते हैं।

अगर कोई व्यक्ति उनमें दिन में तीन बार चाय पीता है तो उसके शरीर में प्लास्टिक के 75,000 सूक्ष्म कण चले जाते हैं। आईआईटी खड़गपुर के एक अध्ययन में यह बात सामने आई है। इन कपों में हाइड्रोफोबिक फिल्म की एक परत चढ़ाई जाती है, जो मुख्तय: प्लास्टिक की बनी होती है। गर्म पानी डालने पर यह परत 15 मिनट के भीतर गलने लगती है।

चाय पीने के शौक़ीन

जो लोग चाय पीने के शौक़ीन हैं और घर के बाहर या घर में भी कागज़ के कप्स में चाय पीते हैं वो थोड़ा सावधान हो जाएँ , कागज के बने एक बार इस्तेमाल करने योग्य कपों से चाय पीना सेहत के लिए हानिकारक है। अगर कोई व्यक्ति उनमें दिन में तीन बार चाय पीता है तो उसके शरीर में प्लास्टिक के 75,000 सूक्ष्म कण चले जाते हैं। आईआईटी खड़गपुर के एक अध्ययन में यह बात सामने आई है। इन कपों में हाइड्रोफोबिक फिल्म की एक परत चढ़ाई जाती है, जो मुख्तय: प्लास्टिक की बनी होती है। गर्म पानी डालने पर यह परत 15 मिनट के भीतर गलने लगती है। बहुत सारे लोगों को प्लास्टिक के कपों से नुकसान के बारे में पता होगा लेकिन कागज़ से बने कप्स भी नुकसानदायक हो सकते हैं।

From Around the web