कोरोना से ठीक होने के बाद बदलें टूथब्रश, फंगस के संक्रमण से बचने के लिए अपनाएं ये 3 आसान उपाय

कोविड-19 के संक्रमण से उबरने के बाद अब ब्लैक फंगस लोगों में फैल रहा है। ब्लैक फंगस की यह बीमारी लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। कोरोना के इलाज के दौरान शुगर लेवल बढ़ने और स्टेरॉयड ट्रीटमेंट से मरीज में फंगस विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। कुछ सरल ओरल हाइजीन टिप्स
 
कोरोना से ठीक होने के बाद बदलें टूथब्रश, फंगस के संक्रमण से बचने के लिए अपनाएं ये 3 आसान उपाय

कोविड-19 के संक्रमण से उबरने के बाद अब ब्लैक फंगस लोगों में फैल रहा है। ब्लैक फंगस की यह बीमारी लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। कोरोना के इलाज के दौरान शुगर लेवल बढ़ने और स्टेरॉयड ट्रीटमेंट से मरीज में फंगस विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। कुछ सरल ओरल हाइजीन टिप्स का पालन करके इस बीमारी के जोखिम को कम किया जा सकता है।

विशेषज्ञों के अनुसार, इस दुर्लभ और घातक बीमारी के शरीर में प्रवेश करने और गंभीर होने से पहले प्राथमिक ब्लैक फंगस के लक्षण दिखाई देते हैं। इनमें मौखिक ऊतक, जीभ और मसूड़े शामिल हैं। टेवा में कोरोना से ठीक होने के बाद अगर इन तीन बातों का ध्यान रखा जाए तो फंगस के खतरे से बचा जा सकता है।

मौखिक हाइजीन

कोविड 19 के बाद स्टेरॉयड और अन्य दवाओं के सेवन से मुंह में बैक्टीरिया और फंगस की संख्या बढ़ सकती है। यह साइनस, फेफड़े और मस्तिष्क के लिए समस्याएं पैदा कर सकता है। दिन में तीन से चार बार ब्रश करें। मुंह की अच्छी देखभाल करके बैक्टीरिया को नियंत्रित किया जा सकता है।

ओरल राइजिंग

कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद व्यक्ति को अपना टूथपेस्ट और अन्य सामान बदलना चाहिए। ताकि पुराने शोरबा पर लगे वायरस शरीर पर दोबारा हमला न करें। साथ ही मुंह में इंफेक्शन भी नहीं होता है। दिन में बार-बार गरारे करें।

टूथब्रश और टंग क्लीनर को साफ करने के लिए

जानकारों का कहना है कि कोरोना से ठीक होने के बाद व्यक्ति को अपने ब्रश को परिवार के अन्य सदस्यों के ब्रश से नहीं रखना चाहिए। ब्रश, टंग क्लीनर जैसी चीजों को दूसरों से दूर रखें और उन्हें बार-बार साफ करें। इसके अलावा गरारे करने के लिए एंटीसेप्टिक माउथवॉश का इस्तेमाल करें।

From Around the web