धुम्रपान से होने वाली 10 शारीरिक समस्याएं, जल्दी जाने वर्ण हो सकता है यह

धुम्रपान (Smoking) करना पुरूष या महिला सभी के लिए यह बहुत नुकसानदेह होता है। इससे फेफड़ो की बीमारी से लेकर कैंसर तक हो सकता है। स्मोकिंग महिलाओं के लिए यह बहुत ज्यादा खतरनाक होता है। आज हम इससे होने वाली 10 बीमारियों के बारे में बताएंगे, जिसे जानकर शायद लोग इस बुरी आदत को छोड़
 
धुम्रपान से होने वाली 10 शारीरिक समस्याएं, जल्दी जाने वर्ण हो सकता है यह

धुम्रपान (Smoking) करना पुरूष या महिला सभी के लिए यह बहुत नुकसानदेह होता है। इससे फेफड़ो की बीमारी से लेकर कैंसर तक हो सकता है। स्मोकिंग महिलाओं के लिए यह बहुत ज्यादा खतरनाक होता है। आज हम इससे होने वाली 10 बीमारियों के बारे में बताएंगे, जिसे जानकर शायद लोग इस बुरी आदत को छोड़ सकें।

धुम्रपान से होने वाली 10 शारीरिक समस्याएं, जल्दी जाने वर्ण हो सकता है यह

  1. सिगरेट में मौजूद विषैले तत्वों के कारण धूम्रपान करने से त्वचा में झुर्रियां होने लगती हैं

समय से पहले बूढ़ा दिखने लगते हैं।

  1. तंबाकू में मौजूद निकोटीन के कारण गंभीर पाचन समस्या हो जाती है

जिसे रिफलक्स ऑफ एसिड कहा जाता है,अत्यधिक सिगरेट पीने से, आप पेट और आंत में अल्सर हो सकता है।

  1. तम्बाकू पीना या इसका सेवन विभिन्न दंत समस्याओं को दावत देता है.

तंबाकू के सेवन से दांतो का संक्रमण और दांत दर्द भी हो सकता है, नियमित धूम्रपान करने वालों को मुंह का कैंसर होना सामान्य बात है।

  1. जिन महिलाओं को धूम्रपान की लत लगी होती है उनमें बांझपन

गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है। उनका गर्भाशय कमजोर होता और उसका भ्रूण पूरी तरह से विकसित नहीं हो पाता।

  1. सिगरेट में निकोटीन और अन्य जहरीले पदार्थ होते हैं जो ह्रदय रोग को बढ़ावा देते हैं।

धूम्रपान करने वाली महिलाओं में दिल के रोग जैसे कोरोनरी हार्ट डिजीज होने की संभावना बढ़ जाती है।

  1. फेफड़ों के कैंसर होने का खास कारण धूम्रपान करना होता है।

पुरूषो के बराबर धूम्रपान करने वाली महिलाओं में फेफड़ों के कैंसर होने के चांस बहुत अधिक होते हैं।

  1. धूम्रपान करने वाले दोनों पुरुष और महिलाओं में डिमेंशिया और अल्ज़ाईमर्स का खता बढ़ जाता है।

  2. धूम्रपान से मोतियाबिंद, ग्लूकोमा, रैटिनोपैथी और ड्राईआई सिंड्रोम का खतरा बढ़ जाता है।

  3. धूम्रपान (Smoking) करने से पुरुषों में शुक्राणु का उत्पादन कम होता जिससे इन्फर्टिलिटी और नपुंसकता का खतरा बढ़ जाता है। महिलाएं जो धूम्रपान करने की आदी होती हैं

उन्हें अक्सर अनियमित माहवारी चक्र की शिकायत होती है

जिससे उनकी प्रजनन क्षमता कम या समाप्त हो जाती है।

  1. धूम्रपान (Smoking) ग्लूकोस के मेटाबोलिज्म कोबिगाड़ता है

जो टाइप 2 डायबिटीज की शुरुआत हो सकती है। इसके अलावा यह बॉडी मास इंडेक्स स्वतंत्र तंत्र के माध्यम से डायबिटीज के खतरे को बढ़ता है।

From Around the web