क्या है व्हाट्सएप का नया फीचर ‘फ्लैश कॉल्स’..?, जानिए यह कैसे काम करता है 

इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप एक नए फ्लैश कॉल फीचर पर काम कर रहा है जो यूजर्स को तुरंत अकाउंट में लॉग इन करने में मदद करेगा। WhatsApp खुद को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रहा है; इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ऐप दिन-ब-दिन खुद को अपग्रेड करने के
 
क्या है व्हाट्सएप का नया फीचर ‘फ्लैश कॉल्स’..?, जानिए यह कैसे काम करता है 

इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सएप एक नए फ्लैश कॉल फीचर पर काम कर रहा है जो यूजर्स को तुरंत अकाउंट में लॉग इन करने में मदद करेगा। WhatsApp खुद को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम कर रहा है; इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ऐप दिन-ब-दिन खुद को अपग्रेड करने के लिए एक से बढ़कर एक फीचर लॉन्च करता रहता है। वर्तमान में, व्हाट्सएप में लॉग इन करने के लिए फोन पर 6 अंकों का सत्यापन कोड भेजा जाता है। रिपोर्ट के मुताबिक, व्हाट्सएप नए अपडेट में वेरिफिकेशन के लिए फ्लैश कॉल करेगा।

एंड्रॉइड 2.21.11.7 अपडेट के लिए व्हाट्सएप बीटा के तहत नया फीचर विकसित हो रहा है। यह अपडेट उपयोगकर्ता को फ्लैश कॉल के माध्यम से एक स्वचालित सत्यापन विधि प्राप्त करने की अनुमति देगा। WABetainfo की रिपोर्ट के मुताबिक, WhatsApp के नए फीचर फ्लैश कॉल की मदद से अब आपका फोन नंबर अपने आप वेरिफाई हो जाएगा। अब यूजर्स को अकाउंट वेरिफिकेशन के लिए 6 अंकों वाले ओटीपी वेरिफिकेशन नंबर के लिए ओटीटी की जरूरत नहीं होगी।

नए व्हाट्सएप फ्लैश कॉल के आने के बाद यूजर के अकाउंट में लॉग-इन करने पर ओटीपी की जगह फ्लैश कॉल की मदद से अकाउंट वेरिफाई किया जाएगा। फ्लैश कॉल के लिए यूजर्स को फोन में लॉग इन करने के लिए ऐप को परमिशन देनी होगी। इसके बाद फोन पर व्हाट्सएप वेरिफिकेशन के लिए फ्लैश कॉल आने पर अकाउंट अपने आप लॉग इन हो जाएगा।

रिपोर्ट के मुताबिक WhatsApp आपके फोन नंबर पर कॉल करेगा और फिर कॉल अपने आप कट जाएगा। इसके बाद व्हाट्सएप आपके कॉल लॉग्स की जांच करेगा कि क्या आपके फोन पर व्हाट्सएप से ही कॉल रिसीव हुई है। इस तरह आप बिना वेरिफिकेशन कोड के लॉग इन कर पाएंगे।

WABetaInfo के अनुसार: “व्हाट्सएप आपके फोन नंबर पर कॉल करेगा और फिर कॉल को स्वचालित रूप से समाप्त कर देगा, यह सत्यापित करते हुए कि आपके फोन के लॉग में अंतिम फोन नंबर उस नंबर के बराबर है जो आपको 6-अंकीय कोड देता है। यह फ़ोन नंबर हमेशा अलग होता है, इसलिए सुरक्षित अनुभव सुनिश्चित करने के लिए इस तरीके को चकमा देने का कोई तरीका नहीं है।”

इस नए फीचर के जरिए यूजर्स एसएमएस वेरिफिकेशन प्रोसेस की तुलना में काफी तेजी से लॉग इन कर पाएंगे। मल्टी-डिवाइस फीचर पेश होने के बाद यह फीचर और भी कारगर साबित होगा। मल्टी-डिवाइस फीचर के जरिए आप एक ही व्हाट्सएप अकाउंट को एक साथ चार डिवाइस पर इस्तेमाल कर पाएंगे। फिलहाल आप एक फोन पर सिर्फ एक ही अकाउंट चला सकते हैं।

WhatsApp OTP घोटाला/धोखाधड़ी

नया व्हाट्सएप अकाउंट बनाते समय या किसी नए डिवाइस पर व्हाट्सएप सेट करते समय, व्हाट्सएप उस मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी भेजता है। इस ओटीपी को भरने के बाद ही नए डिवाइस पर नया व्हाट्सएप अकाउंट या व्हाट्सएप अकाउंट एक्टिवेट होता है। एक यूजर का व्हाट्सएप अकाउंट हैक करने के लिए हैकर्स इस ओटीपी फीचर की मदद ले रहे हैं।

स्कैमर्स पहले आपको यह दावा करते हुए एक संदेश भेजते हैं कि आपका मित्र संकट में है। कई बार ये हैकर्स आपके दोस्त के नंबर से ही मैसेज भेज सकते हैं। किसी यूजर का व्हाट्सएप अकाउंट हैक करने के लिए हैकर वही काम करता है जो यूजर व्हाट्सएप अकाउंट शुरू करता है। हैकर एक डिवाइस में व्हाट्सएप पर आपका मोबाइल नंबर दर्ज करता है, जिसके बाद आपको ओटीपी मिलता है जिसके बाद वह आपसे मदद मांगता है। जैसे ही आप ओटीपी शेयर करेंगे, आप अपने व्हाट्सएप अकाउंट से लॉग आउट हो जाएंगे और हैकर आपके नंबर से आपके डिवाइस पर व्हाट्सएप का इस्तेमाल करना शुरू कर देगा।

From Around the web