कोरोना से ठीक होने के बाद फायदेमंद होगी ये स्मार्टवॉच: स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में करेगी आपको अलर्ट

नई दिल्ली, 10 जुलाई: COVID-19 से ठीक होने के बाद भी मरीजों को कुछ दिनों से स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसके लिए आपको समय-समय पर डॉक्टर के पास जाना होगा। लेकिन अब एक ऐसी स्मार्टवॉच आई है जो मरीजों को समय रहते स्वास्थ्य के प्रति सचेत करेगी। एपल की घड़ी कोरोना
 
कोरोना से ठीक होने के बाद फायदेमंद होगी ये स्मार्टवॉच: स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में करेगी आपको अलर्ट

नई दिल्ली, 10 जुलाई: COVID-19  से ठीक होने के बाद भी मरीजों को कुछ दिनों से स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इसके लिए आपको समय-समय पर डॉक्टर के पास जाना होगा। लेकिन अब एक ऐसी स्मार्टवॉच आई है जो मरीजों को समय रहते स्वास्थ्य के प्रति सचेत करेगी। एपल की घड़ी कोरोना से ठीक होने के बाद स्वास्थ्य देखभाल के काम आएगी। Apple वॉच ने अब तक कई उपयोगकर्ताओं के स्वास्थ्य की स्थिति की पहचान करने में मदद की है। नतीजतन, ऐसी घटनाएं हुई हैं जहां उपयोगकर्ता की जान भी बच गई है। यदि आप उच्च रक्तचाप या दिल के दौरे से पीड़ित हैं तो यह घड़ी आपको समय पर सचेत करती है। लेकिन अब यह घड़ी कोरोना से ठीक होने के बाद भी अलर्ट करेगी।

TV9 हिंदी की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक नए अध्ययन से पता चला है कि Apple Watch, Fitbits स्मार्टवॉच और अन्य कंपनियों की घड़ियाँ अब आपको कोरोना के कारण होने वाली स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति सचेत कर रही हैं। आपका कोविड टेस्ट नेगेटिव आने के बाद भी आपको कुछ दिनों तक परेशानी हो सकती है। ऐसे में इस स्मार्टवॉच का फायदा हो सकता है।

न्यूयॉर्क टाइम्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, जामा नेटवर्क में प्रकाशित एक नए अध्ययन में पाया गया कि जो लोग कोविड-19 से ठीक हो जाते हैं उनके व्यवहार और शरीर में बदलाव दिखाई देते हैं। उपयोगकर्ता कोविड से ठीक होने के बाद समय-समय पर इन वियरेबल्स के माध्यम से अपने स्वास्थ्य की स्थिति की जांच कर सकते हैं। यह रोगियों को इस बात पर भी नजर रखने की अनुमति देगा कि हम कोविड से कैसे ठीक हो रहे हैं, स्वास्थ्य की स्थिति में कैसे सुधार हो रहा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस घड़ी की मदद से सांस लेने की गति, शरीर के तापमान, शरीर की गतिविधियों और अन्य कारकों पर नजर रखी जा सकती है।

स्कूल ऑफ मेडिसिन में वियरेबल्स गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिस्ट रॉबर्ट हर्टन ने कहा, यह एक महत्वपूर्ण अध्ययन था। क्योंकि इन वियरेबल्स के जरिए हम समझ सकते हैं कि कोरोना से ठीक होने के बाद कोविड हमारे शरीर पर कैसे असर करता है।

कोरोना से ठीक होने के बाद भी लोगों में दिख रहे नतीजे-

डिजिटल एंगेजमेंट एंड ट्रैकिंग फॉर अर्ली कंट्रोल एंड ट्रीटमेंट (DETECT) परीक्षण के डेटा की जांच वैज्ञानिकों द्वारा की जा रही है। मार्च 2020 से जनवरी 2021 तक इसका अध्ययन किया गया। परीक्षण में Fitbits और Apple es का उपयोग करने वाले लगभग 37,000 लोगों ने भाग लिया। लोगों को MyDataHelps ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा गया। फिर वे अपने Apple और Fitbit स्मार्टवॉच के माध्यम से स्वास्थ्य संबंधी जानकारी प्राप्त करने के लिए सहमत हुए। यूजर्स से कोविड-19 संबंधित लक्षण और कोविड-19 टेस्ट रिपोर्ट के बारे में भी पूछा गया। अध्ययन में पाया गया कि जो नागरिक कोविड से ठीक हुए उनमें श्वसन दर अधिक थी। यह प्रति मिनट पांच बीट से अधिक था। ज्यादातर मरीजों में यह स्थिति कोविड से ठीक होने के बाद दो से तीन महीने तक बनी रही।

From Around the web