ऑनलाइन शॉपिंग करते समय ऑफर्स वाली इन 4 चीजों से बचें, नहीं तो होगा बड़ा नुकसान

Amazon-Flipkart ऑनलाइन शॉपिंग: प्रमुख ई-कॉमर्स वेबसाइट, Flipkart और Amazon 3 अक्टूबर से अपनी वार्षिक बिक्री शुरू करेंगे। Flipkart की Big Billion Days Sale और Amazon की Amazon की Great Indian Festival Sale में ऐसे तमाम प्रोडक्ट्स पर आपको कई ऑफर्स और डिस्काउंट मिलते हैं। आप छूट को लेकर बहुत उत्साहित हैं।

 
Avoid these 4 things with offers while shopping online

नई दिल्ली, 2 अक्टूबर 2021.: Amazon-Flipkart ऑनलाइन शॉपिंग: प्रमुख ई-कॉमर्स वेबसाइट, Flipkart और Amazon 3 अक्टूबर से अपनी वार्षिक बिक्री शुरू करेंगे। Flipkart की Big Billion Days Sale और Amazon की Amazon की Great Indian Festival Sale में ऐसे तमाम प्रोडक्ट्स पर आपको कई ऑफर्स और डिस्काउंट मिलते हैं। आप छूट को लेकर बहुत उत्साहित हैं। लेकिन कुछ बातों का ध्यान रखना भी जरूरी है ताकि आपको किसी तरह का नुकसान या धोखाधड़ी का सामना न करना पड़े। ऑनलाइन शॉपिंग करते समय कुछ बातों का ध्यान रखें।

कैशबैक से सावधान

आपने देखा होगा कि कई डील्स में आपको कैशबैक के मौके मिलेंगे। सेल के दौरान ज्यादातर प्रॉडक्ट्स पर डिस्काउंट के साथ कैशबैक ऑफर किया जा रहा है। ध्यान रखें कि यह कैशबैक अवसर आम तौर पर पैसा बनाने की योजना है। इस तरह रिटेलर्स आपके बजट से कैशबैक के बहाने आपको कोई प्रोडक्ट खरीद कर नाम से कैशबैक देते हैं।

एमआरपी का महत्व

मान लीजिए आपको ऐसी बिक्री पर 70-80 फीसदी तक की छूट मिलती है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि आप उत्पाद की एमआरपी को नजरअंदाज कर दें। कभी-कभी डिस्काउंट और कीमत के बीच का अंतर बहुत ज्यादा नहीं होता है, लेकिन एमआरपी को गलत तरीके से इस तरह लिखा जाता है कि आपको लगता है कि डिस्काउंट बड़ा है। इसलिए, किसी भी उत्पाद को खरीदने से पहले, कई साइटों से उत्पाद के ईएमपी की जांच करना न भूलें।

Avoid these 4 things with offers while shopping online

उत्पाद समीक्षा देखें

हाल ही में एक खबर आई थी जिसमें Amazon ने कई चीनी कंपनियों को अपनी शॉपिंग वेबसाइट से बैन कर दिया था। क्योंकि उन्हें अपने उत्पादों के लिए झूठी समीक्षा लिखने को मिल रहे थे। इसके अलावा, हम आपको यह बताना चाहेंगे कि यदि आप कोई भी उत्पाद खरीदने से पहले समीक्षाओं की जांच करते हैं, तो आपको पहले से समीक्षाओं की भी जांच करनी चाहिए। साथ ही, उत्पाद वारंटी और वारंटी के बारे में सभी जानकारी प्राप्त करना सुनिश्चित करें।

नो-कॉस्ट EMI के बारे में सच्चाई

आपने देखा होगा कि कई ऑफर्स आपको नो-कॉस्ट ईएमआई का विकल्प भी देते हैं। विश्लेषकों का मानना ​​है कि नो-कॉस्ट ईएमआई मार्केटिंग का एक तरीका है। जिसमें कंपनी और बैंक पहले से ही मिल चुके हैं। उनके मुताबिक नो-कॉस्ट ईएमआई के नाम पर प्रोडक्ट की कीमत बढ़ाई जाती है और फिर बैंक ब्याज देता है। यहां फिर से, उत्पाद की वास्तविक लागत पर विचार किया जाता है।

ऑनलाइन खरीदारी करते समय ध्यान रखने योग्य कुछ सरल बातें यहां दी गई हैं। सेल्स में आपको कमाल के ऑफर्स जरूर मिलेंगे, लेकिन यह भी ध्यान रखें कि ये ऑफर्स आपको नुकसान नहीं पहुंचाएंगे।

From Around the web