चाणक्य नीति: ऐसे व्यक्ति महान ऐश्वर्य पाने के बाद भी, खुश नही रहते

सुन कर काफी अजीब लग रहा होगा की महान व्यक्ति भी क्या नष्ट हो सकते हैं लेकिन आपको बता दूं की इस दुनिया में कुछ भी कभी भी हो सकता है। कुछ इंसान के गलतियों से होता है तो कुछ ईश्वर के मर्जी से लेकिन हर चीज सम्भव है। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि ऐसे
 
चाणक्य नीति: ऐसे व्यक्ति महान ऐश्वर्य पाने के बाद भी, खुश नही रहते

सुन कर काफी अजीब लग रहा होगा की महान व्यक्ति भी क्या नष्ट हो सकते हैं लेकिन आपको बता दूं की इस दुनिया में कुछ भी कभी भी हो सकता है। कुछ इंसान के गलतियों से होता है तो कुछ ईश्वर के मर्जी से लेकिन हर चीज सम्भव है। आचार्य चाणक्य कहते हैं कि ऐसे व्यक्ति महान होने के बावजूद भी नष्ट हो जाते हैं। आइये जानते हैं वे कौन से व्यक्ति हैं।

वो व्यक्ति कोई और नही बल्कि विवेकहीन व्यक्ति हैं। विवेकहीन व्यक्ति भले ही महान ऐश्वर्य को क्यों न प्राप्त कर लिए हो, भले ही उनका समाज मे दबदबा क्यों न हो लेकिन फिर भी ऐसे व्यक्ति शीघ्र ही नष्ट हो जाते हैं और इनके नष्ट होने का सबसे बड़ा कारण है उनकी विवेकहीनता।

ये लोग अपने विवेक से काम नही करते और हमेशा कुछ ऐसा कर देते हैं जो उन्हें नही करना चाहिए था। इसीलिए आचार्य चाणक्य कहते हैं कि ऐसे व्यक्ति हमेशा नष्ट हो जाते हैं।

From Around the web