बालों के झड़ने का कारण,क्या है और कैसे रोके इस गंजेपन को?

अनियमित और अस्वस्थ खानपान के कारण और दिनों-दिन बढ़ते प्रदूषण आदि के कारण लोगों में बाल झड़ने की समस्या तेजी से बढ़ी है। आजकल छोटी उम्र में ही लोगों के बाल झड़ रहे हैं। इसी कारण युवावस्था में ही बहुत से लोग बूढ़े जैसे नजर आने लगते हैं। बालों के झड़ने की समस्या के कारण
 
बालों के झड़ने का कारण,क्या है और कैसे रोके इस गंजेपन को?

अनियमित और अस्वस्थ खानपान के कारण और दिनों-दिन बढ़ते प्रदूषण आदि के कारण लोगों में बाल झड़ने की समस्या तेजी से बढ़ी है। आजकल छोटी उम्र में ही लोगों के बाल झड़ रहे हैं। इसी कारण युवावस्था में ही बहुत से लोग बूढ़े जैसे नजर आने लगते हैं। बालों के झड़ने की समस्या के कारण लोगों में गंजापन भी बढ़ा है। बालों के झड़ने के कई कारण हो सकते हैं। कई बार आनुवांशिक कारणों से भी बाल झड़ जाते हैं। इसके अलावा रक्त विकार, किसी विष का सेवन कर लेने से , उपदंश, दाद, एक्जिमा आदि के कारण भी ऐसा हो जाता है। पुरुष और कभी-कभी महिलायें भी, नोटिस करते हैं कि कई विभिन्न कारणों से उनके बाल समय से पहले ही पतले हो रहे हैं। उम्र के साथ, मीनोपॉज, प्रेगनेंसी, जेनेटिक्स, बीमारी और अन्य कई कारण बाल झड़ने में अहम भूमिका अदा करते हैं

बालों के झड़ने का कारण,क्या है और कैसे रोके इस गंजेपन को?

मामूली नहीं है समस्या

थोड़ा-बहुत गंजापन उनमें भी देखा जा सकता है जो इससे प्रभावित नहीं होते लेकिन बालों का गिर जाना किसी व्याक्ति के आत्म विश्वास और आत्म-प्रतिष्ठा को चोट पहुंचाता है। हालांकि गंजापन जीवन के लिए कोई खतरनाक बीमारी नहीं है लेकिन मनोवैज्ञानिक कारणों से यह चिंता और व्याकुलता का कारण बनता है। गंजेपन से जुड़ा सबसे महत्वपूर्ण मसला यह है कि इससे आत्म‍-सम्मान में भारी गिरावट आती है

बालों के झड़ने का कारण,क्या है और कैसे रोके इस गंजेपन को?

बालों के गिरने की समस्या से निपटना

दिखाई देने वाले बालों में एकाएक भारी परिवर्तनों का सामना करना काफी कठिन है विशेषकर जब ये व्यक्ति के नियंत्रण से बाहर हों, इसके बजाय इसे स्वीकार कर लेना ही आसान लगता है। बाल किसी व्यीक्ति का अभिन्न अंग नहीं होते बल्कि एक सकारात्मक नज़रिया और अच्छा व्यक्तित्व ही आपको आकर्षक बनाता है। यदि समस्‍या उपचार योग्य नहीं है तो अपना धैर्य न खोएं क्योंकि चिकित्सा जगत (मेडिकल फील्डप) में हो रहे नित नए विकास के साथ नई उम्मीदें कायम हैं। न ही हर किसी को बाल गिरने की समस्या को लेकर चिंतित होकर चिकित्सकीय सहायता ही लेनी चाहिए उन्हें इस बाधा को पीछे छोड़कर जीवन का सामना करना सीखना चाहिए।

स्कैल्प पर लहसुन, प्याज या अदरक का रस आजमायें: ये सुनिश्चित करें कि इनको आपस में ना मिलाएं बल्कि किसी एक ही का प्रयोग करें। रातभर रस को स्कैल्प पर लगा रहने दें और सुबह उसे धो डालें।

अपने बालों में मेहँदी लगायें: मेहँदी हेयर क्यूटिकिल्स को सील कर देती है जिससे बालों की जड़ों को मजबूती मिलती हैं। बेहतर परिणाम के लिए आप इसमें दही एवं अंडे को भी मिक्स कर सकती हैं

From Around the web