खांसी क्यों होती है और इसके देसी उपचार क्या है

खासीं सांस प्रणाली के अनके विकारों का एक लक्षण है। केवल सांस-प्रणाली ही नहीं, बल्कि लीवर की खराबी के कारण से खांसी हो जाती है। आइये हम अच्छी तरह से जान लेते हैं इसके आयुवेर्दिक देसी उपचार जो आपको अपने रसोईघर से मिल जायेंगे। बस आपको यह तरीका फॉलों करना हैं। सरकारी नौकरियां यहाँ देख
 
खांसी क्यों होती है और इसके देसी उपचार क्या है

खासीं सांस प्रणाली के अनके विकारों का एक लक्षण है। केवल सांस-प्रणाली ही नहीं, बल्कि लीवर की खराबी के कारण से खांसी हो जाती है। आइये हम अच्छी तरह से जान लेते हैं इसके आयुवेर्दिक देसी उपचार जो आपको अपने रसोईघर से मिल जायेंगे। बस आपको यह तरीका फॉलों करना हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

खांसी क्यों होती है और इसके देसी उपचार क्या है

  • छिलके के साथ अखरोट को भस्म बनाकर 1 ग्राम की मात्रा में 6 ग्राम शहद मिलाकर सेवन चाहिए। यह खांसी में लाभप्रद है।
  • साफ की हुई अजवायन 1 ग्राम की मात्रा में रोज रात के समय पान में रखकर खिलाने से खांसी दूर होती है।
  • साधारण खांसी में अदरक के रस में थोड़ा सा शहद मिलाकर सेवन करना फायदेमंद है।
  • इसमें यदि थोड़ा सा काला नमक भी मिला लिया जाये तो।
  • भी जल्दी से खांसी ठीक होती है।
  • आंवला चूर्ण 20 ग्राम, दूध 125 ग्राम तथा 400 ग्राम पानी को हल्की आंच पर पकायें।
  • जब दूध थोड़ा बचे तो छानकर उसमें 6 ग्राम गोमूत्र मिलाकर सुबह षाम यानी दिन में 2 बार रोगी को पिलायें। इसका नियमित रूप से सेवन करने से तेज खांसी ठीक हो जाती है।
  • बुढ़ापे की खांसी में यानी जिसमें कफ नहीं निकालता है।
  • ऐसे में दो ग्राम काले नमक की डली को मुंह में डालकर खुद घुलने दें।
  • ऐसा करने पर आपको एक बार में भी आराम दिखेगा।
  • केले के सूखे पत्तों की राख बनाकर कपड़े से छान लें।
  • इसे थोड़ी-थोड़ी मात्रा में गर्मियों में नमक के साथ।
  • सर्दियों में शहद के साथ मिलाकर चाटने से सभी प्रकार की खांसी में शर्तिया फायदा पहुंचता है।
  • बहुत से वै़द्य कई सालों से यह नुस्खा अपनाते आये हैं।

खांसी क्यों होती है और इसके देसी उपचार क्या है

  • भुनी हुई फिटकरी 10 ग्राम।
  • इतनी ही देसी खांड़ दोनों को बारीक पीसकर सूखी खांसी वाले रोगी को दूध के साथ 15 दिन लेने से यह पुरानी से पुरानी खांसी और दमा को दूर करता है।
  • तुलसी का सूखा काढ़ा पीने से सूखी खांसी नष्ट हो जाती है।

खांसी क्यों होती है और इसके देसी उपचार क्या है

  • अदरक 6 ग्राम, काली मिर्च 6 ग्राम तथा पुराना गुड़ 20 ग्राम लें।
  • अदरक के बारीक टुकड़े कर लें और काली मिर्च को अच्छी तरह पीस लें फिर सारी चीजों को 250 ग्राम पानी में मिलाकर उबालें। जब पानी का एक चौथाई बचे तो उसे छानकर रोगी को पिला दें।
  • केवल 2-3 दिन पिलाने से खासी और जुकाम भाग जायेंगे।
  • अदरक का रस 6 ग्राम तथा 6 ग्राम शुद्ध शहद, दोनों को अच्छी तरह मिला लें।
  • इसका सेवन भी खांसी, कफ, जुकाम में रामबाण इलाज है।

दोस्तो अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो तो इसको दिल से लाइक करे।

हो सके तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ व्हाट्सअप और फेसबुक पर जरूर शेयर करें।

From Around the web