सुबह और शाम अलसी को पीस कर पानी के साथ सेवन करे, लाभ मिलेगा

अलसी एक एैसा बीज है इस बीज से तेल निकाला जाता है. आमतौर पर इसकी चटनी बनाकर खाई जा सकती है. इस बीज में बहुत सारे विटामिन पाये जाते है. विटामिन बी काम्प्लेक्स, मैगनिशियम, मैगनीज, फैटी एसिड, पॉली अनसेचूरेटेड, एटी आक्सीडेंट, जोकी एस्ट्रोजन, आयरन, जिंक, पोटेशियम, फोस्फोरस, कैल्शियम, विटामिन सी, इ, कैरोटीन तत्व पाये जाते
 
सुबह और शाम अलसी को पीस कर पानी के साथ सेवन करे, लाभ मिलेगा

अलसी एक एैसा बीज है इस बीज से तेल निकाला जाता है. आमतौर पर इसकी चटनी बनाकर खाई जा सकती है. इस बीज में बहुत सारे विटामिन पाये जाते है. विटामिन बी काम्प्लेक्स, मैगनिशियम, मैगनीज, फैटी एसिड, पॉली अनसेचूरेटेड, एटी आक्सीडेंट, जोकी एस्ट्रोजन, आयरन, जिंक, पोटेशियम, फोस्फोरस, कैल्शियम, विटामिन सी, इ, कैरोटीन तत्व पाये जाते है.

अलसी के सेवन से आपके नाखून मजबूत बनते है, अलसी के सेवन से आप की त्वचा सुंदर और चिकनी बनती है, अलसी के सेवन से आपके बालो में डैड्रफ नहीं होता, अलसी के सेवन से आपके नेत्र को फायदा होता है. अलसी के सेवन से सोराइसीस जैसे बिमारी में लाभ मिलता है.

जोडो के बिमारी से अगर कोई रोगी परेशान है एैसे मरीज को अलसी के सेवन से अल्फा लिनोलेनिक एसिड जो अलसी के सेवन से मिलता है. इसकी वजसे जोडो में फायदा होता है. अलसी के बीज में एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल, एंटी वायरल तत्व होने के कारण रोगप्रतिकार शक्ती बढती है.

गर्भवती स्त्रिया स्तनपान करणे वाली स्त्रिया अलसी का सेवन जरूर करे क्योकी इस के सेवन से स्त्री की रोगप्रतिकार शक्ती बढती है और इसकी वजसे शिशु बच्चो की रोगप्रतिकार शक्ती अटोमैटीक बढेगी.

अलसी के बीज में 3 फैटी एसिड होता है अलसी सेवन करणे का आजकल डॉक्टर भी सलाह देते है. यह बीज फायबर से भरपूर है. इसकी वजसे वजन घटाने में मदत मिलती है. महिलाये मासिक धर्म चलते समय होने वाली समस्या में अलसी का सेवन करे माइल्ड मेनोपॉज समस्या में करीब 50 ग्राम अलसी को पीसकर उसकी चटणी बनाकर खाने से लाभ मिलेगा.

अगर किसी इन्सान को कोलेस्ट्रोल बढा है और लगातार वजन बढ रहा है. एैसे इन्सान को एक सप्ता तक सुबह और शाम अलसी को पीस कर पानी के साथ सेवन करे लाभ मिलेगा. खून का संचार सही बना रहेगा थकान दूर होगी शुगर कंट्रोल में रहेगी अलसी के तेल से चेहरे पर मसाज करणे से चेहरे पर चमक आयेगी.

From Around the web