जानते हो ऑरेगैनो से होने वाले 9 फायदों के बारे में?, जानिए अभी 

ऑरेगैनो एक गुणकारी पौधा है, जिसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के व्यंजनों के साथ-साथ आयुर्वेदिक उपचार में भी किया जाता है। इसका पौधा तुलसी और पुदीने की तरह ही होता है। तो आइये जानते हैं इससे मिलने वाले फायदों के बारे में। इसके एसेंशियल ऑयल में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इन्फ्लेमेशन और हृदय रोग
 
जानते हो ऑरेगैनो से होने वाले 9 फायदों के बारे में?, जानिए अभी 

ऑरेगैनो एक गुणकारी पौधा है, जिसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के व्यंजनों के साथ-साथ आयुर्वेदिक उपचार में भी किया जाता है। इसका पौधा तुलसी और पुदीने की तरह ही होता है। तो आइये जानते हैं इससे मिलने वाले फायदों के बारे में।

  1. इसके एसेंशियल ऑयल में एंटी इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इन्फ्लेमेशन और हृदय रोग के खतरे को कम करते हैं। साथ ही, इसमें कार्डियोप्रोटेक्टिव गुण भी होते हैं जो हृदय को स्वस्थ रखने में मदद कर सकते हैं।

  2. कैंसर के खतरे को करे कम: इसमें थाइमोल, कार्वाक्रोल और कुछ अन्य एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं। ये कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकते हैं और इसके खतरे को कम करते हैं। खासकर, पेट के कैंसर की कोशिकाओं को बढ़ने से रोकने के लिए यह बहुत लाभकारी साबित हो सकता है। इसमें प्रॉपॉपोटिक प्रभाव होते हैं, जो कैंसर सेल्स को खत्म कर सकते हैं और इनकी मदद से इसका खतरा भी कम हो सकता है।

  3. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए: इसमें कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जैसे विटामिन-ए, सी और ई। इन तीनों ही विटामिन को प्रभावी एंटी-ऑक्सीडेंट माना जाता है। ये विटामिन शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं। ये शरीर पर फ्री-रेडिकल्स के प्रभाव को कम करते हैं और कोशिकाओं को उनके प्रभाव से बचाते हैं। इसके लिए आप एक गिलास पानी में ऑरेगैनो की पत्तियों को उबाल कर, उस पानी का सेवन कर सकते हैं।

  4. पेट दर्द को कम करे: इसमें मोनोटेरेपिक फिनोल नाम का एक कंपाउंड पाया जाता है, जो पेट दर्द को कुछ हद तक कम करने में मदद करता है। इसके लिए आप एक गिलास पानी या जूस में एक से दो बूंद इसका तेल डालकर सेवन कर सकते हैं।

  5. जोड़ों के दर्द से आराम दिलाए: इसके लिए रोज सुबह एक कप पानी में इसके कुछ पत्ते उबाल लें और उस पानी का सेवन करें। आप चाहें तो इसके तेल से मसाज भी कर सकते हैं।

  6. पीरियड क्रेम्प्स को कम करे: इसके पत्तों को पानी में उबाल कर पीने से पेट दर्द के साथ-साथ माहवारी की ऐंठन से भी कुछ आराम मिल सकता है। आप चाहें तो अदरक की चाय में अजवायन की ताजी पत्तियां डालकर उसका सेवन कर सकती हैं।

  7. अपच से आराम: ये आंत को नुकसान पहुंचाने वाले बैक्टीरिया की संख्या को कम करता है और आंत की इम्यून क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करता है। इसके अलावा, यह आंत की इन्फ्लेमेशन को भी कम करने में मदद करता है, जिससे अपच की समस्या से कुछ हद तक आराम मिलता है। इसके लिए आप एक कप पेपरमिंट या लेमन टी में एक या दो बूंद इसके ऑयल की डालकर उसका सेवन कर सकते हैं।

  8. जुकाम और बुखार से आराम: जुकाम, बुखार और कॉमन कोल्ड के लक्षणों को कम करने के लिए इसका उपयोग किया जा सकता है।

  9. एनीमिया से राहत दिलाए: इसकी पत्तियों में समृद्ध मात्रा में आयरन पाया जाता है, जो आयरन की कमी को पूरा करने में मदद करता है। इसके लिए आप इसकी सूखी पत्तियों को पानी में उबालकर, उस पानी का सेवन कर सकते हैं।

From Around the web