स्त्रियों में मासिक धर्म के दौरान बहुत सी बिमारियों का रामबाण इलाज है यह आयुर्वेदिक औषिधि

आयुर्वेदिक : मासिक धर्म स्त्रियों में होने वाली एक स्वाभाविक प्रक्रिया है । मासिक धर्म में अनियमतता से स्त्रा के शरीर में कई विकार उत्पन्न हो जाते हैं । आलस्य, खून की कमी, मैथुन दोष, अध्कि ठण्डी चीजों का सेवन, व्यर्थ भ्रमण, शोक, क्रोध्, दुख, मानसिक उद्ववेग, यौन असावधनी और अनेक कारणों से मासिक धर्म
 
स्त्रियों में मासिक धर्म के दौरान बहुत सी बिमारियों का रामबाण इलाज है यह आयुर्वेदिक औषिधि

आयुर्वेदिक : मासिक धर्म स्त्रियों में होने वाली एक स्वाभाविक प्रक्रिया है । मासिक धर्म में अनियमतता से स्त्रा के शरीर में कई विकार उत्पन्न हो जाते हैं । आलस्य, खून की कमी, मैथुन दोष, अध्कि ठण्डी चीजों का सेवन, व्यर्थ भ्रमण, शोक, क्रोध्, दुख, मानसिक उद्ववेग, यौन असावधनी और अनेक कारणों से मासिक धर्म अनियमित हो जाता है । मासिक धर्म अनियमित होने से, गर्भाशय के हिस्से में दर्द, भूख न लगना, वमन, कब्ज, स्तनों में दर्द, दिल की धड़कन बढना, पेट में दर्द, शरीर में सुजन, नींद न आना, मानसिक तनाव, हाथों पैरों व कमर में दर्द, थकावट के अलावा गर्भ धारण न होना जैसे रोग हो जाते हैं । हमारे देश में अशिक्षा व इसके बारे में जानकारी न होना शारिरक अस्वच्छता आदि के कारण बहुतायक स्त्रियों में यह रोग हो रहा है ।

जंगम स्वर्ण कलश नारी योग कैप्सुल एवम् सिरप

स्त्रियों में मासिक धर्म के दौरान बहुत सी बिमारियों का रामबाण इलाज है यह आयुर्वेदिक औषिधि

जंगम आर्युवेदा द्वारा तैयार जंगम स्वर्ण कलश नारी योग कैपसुल एवम् सिरप जोकि शुद्ध जडी बुटियों से तैयार किया गया एक अनुभूत योग है । इसके दो से तीन महीने प्रयोग करने से स्त्रियों में महावारी सम्बन्ध्ति रोगों में अत्यन्त प्रभावशाली परिणाम देखे गए हैं । इसके अलावा महिलाओं में विभिन्न शारीरिक कमियों के कारण सन्तान उत्पति न होने की दशा में इस दवाई का प्रयोग करने से बहुत अच्छे परिणाम पाए गए हैं ।

स्त्रियों में मासिक धर्म के दौरान बहुत सी बिमारियों का रामबाण इलाज है यह आयुर्वेदिक औषिधि

परहेजः

रोगी को तला हुआ भोजन, मैदे की बनी वस्तुएं, चाय, चीनी व चीनी से बने पदार्थों, खट्टी व ठण्डी चीजों, से परहेज रखना चाहिए । चीनी की जगह गुड का प्रयोग करना चाहिए ।

विशेषः

हमारी सलाह के अनुसार जंगम स्वर्ण कलश नारी योग कैप्सुल एवम् सिरप को किसी भी योग्य वैध् की देखरेख में लेना चाहिए । दो जंगम स्वर्ण कलश नारी योग कैप्सुल और 15 मि.ली. जंगम स्वर्ण कलश नारी योग सिरप सुबह व शाम किसी योग्य वैद्य की देखरेख में ताजे पानी के साथ सेवन करना चाहिए ।

किसी भी तरह की जानकारी के लिए जंगम आर्युवेदा के हैल्पलाईन नं0 70270-70276 पर कभी भी कॉल कर सकते है ।

अपनी मन पसंद ख़बरे मोबाइल में पढ़ने के लिए गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करे sabkuchgyan एंड्राइड ऐप- Download Now

दोस्तों अगर आपको हमारी यह जानकारी पसंद आई तो इस पोस्ट को लाइक करना ना भूलें और अगर आपका कोई सवाल हो तो कमेंट में पूछे हमारी टीम आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेगी। आपका दिन शुभ हो धन्यवाद ।

From Around the web