मधुमेह को कण्ट्रोल करने और याददाश्त को भी बढ़ाता है जामुन का सेवन 

हेल्थ डेस्क. औषधीय गुणों से भरपूर गुड़ के तनों में ग्लाइकोसाइड जैम्बोलिन और गैलिक एसिड होता है जो रोगों के उपचार में सहायक होता है। ऐसे लाभकारी जामुन के लगातार सेवन से स्मरण शक्ति बढ़ती है। बरसात का मौसम शुरू होते ही बाजारों में जगह-जगह काले रसीले जामुन के नजारे देखने को मिल सकते हैं।
 
मधुमेह को कण्ट्रोल करने और याददाश्त को भी बढ़ाता है जामुन का सेवन 

हेल्थ डेस्क. औषधीय गुणों से भरपूर गुड़ के तनों में ग्लाइकोसाइड जैम्बोलिन और गैलिक एसिड होता है जो रोगों के उपचार में सहायक होता है। ऐसे लाभकारी जामुन के लगातार सेवन से स्मरण शक्ति बढ़ती है।

बरसात का मौसम शुरू होते ही बाजारों में जगह-जगह काले रसीले जामुन के नजारे देखने को मिल सकते हैं। काला जामुनी स्वाद में खट्टा-मीठा होने के साथ-साथ सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद होता है। ग्लूकोज, फ्रुक्टोज, विटामिन सी, ए, राइबोफ्लेविन, निकोटिनिक एसिड, फोलिक एसिड, सोडियम और पोटेशियम के अलावा, स्वादिष्ट और रसीले जैम में कैल्शियम, फास्फोरस, जिंक और आयरन होता है, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है। जामुन के बीजों में ग्लाइकोसाइड्स, जैम्बोलिन और गैलिक एसिड होते हैं, जो औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं, जो रोगों के उपचार में सहायक होते हैं। ऐसे लाभकारी जामुन का लगातार उपयोग याददाश्त बढ़ाने में भी मदद करता है। जामुन से कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है।

आइए जानते हैं जामुन के क्या फायदे हैं?

डायबिटीज के मरीजों के लिए जामुन बहुत फायदेमंद होता है। यह इंसुलिन को रेगुलेट करने का काम करता है। जामुनी बीजों को सुखाकर चूर्ण बना लें। और इसे 1 चम्मच गुनगुने पानी के साथ खाली पेट लेने से मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद मिलती है।

जामुन एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो एंटी-एजिंग है। आप जामुन का पेस्ट बनाकर अपने चेहरे पर लगा सकते हैं, इससे आपकी त्वचा में चमक बनी रहेगी।

जामुन, दिल की सेहत के लिए भी बहुत जरूरी है। यह खून को पतला करने में मदद करता है, जिससे हार्ट ब्लॉकेज और स्ट्रोक का खतरा कम होता है।

जामुन का सेवन कैंसर को रोकने में मदद करता है।

अगर आपकी याददाश्त कमजोर है तो आपको रोजाना जामुन खाना चाहिए। जामुन याददाश्त बढ़ाने में बेहद मददगार होता है।

जामुन शरीर में खून की कमी को दूर करता है। रक्ताल्पता और शारीरिक दुर्बलता को दूर करने के लिए जामुन का रस, शहद, आंवले का रस या गुलाब के फूल का रस बराबर मात्रा में एक-दो महीने तक रोजाना सुबह-शाम सेवन करें।

From Around the web