आयुर्वेदिक टिप्स : इन बिमारियों में बेहद लाभदायद है सफ़ेद मूसली

आयुर्वेदिक टिप्स : आज हम आपको इस ऐसी लाभकारी चीज के बारें में जो शरीर के गुप्त रोगों को दूर करने के साथ साथ अंदरूनी कमजोरी को भी दूर करने में काफी अधिक फायदेमंद होता है। आज के समय में लोगों का खान पान ऐसा हो गया है जिस वजह से लोग गुप्त रोगों और
 
आयुर्वेदिक टिप्स : इन बिमारियों में बेहद लाभदायद है सफ़ेद मूसली

आयुर्वेदिक टिप्स : आज हम आपको इस ऐसी लाभकारी चीज के बारें में जो शरीर के गुप्त रोगों को दूर करने के साथ साथ अंदरूनी कमजोरी को भी दूर करने में काफी अधिक फायदेमंद होता है। आज के समय में लोगों का खान पान ऐसा हो गया है जिस वजह से लोग गुप्त रोगों और अंदरूनी कमजोरी के शिकार हो रहे है। यह एक ऐसी फलकारी चीज है जो आसानी से बाजार में मिल जाती है और इसका कोई गलत असर भी नहीं होता शरीर को। अगर आप इस चीज का रोजाना इस्तेमाल करते है तो अंदरूनी कमजोरी जड़ से खत्म हो जाती हैं।

हम जिस चीज की बात करने वाले है उसे सफेद मूसली कहते है। इसका इस्तेमाल दूध के साथ कर सकते है। आपको सबसे पहले बाजार से इसका चूर्ण खरीद लेना चाहिए। प्रतिदिन सुबह उठकर एक चम्मच सफेद मूसली को एक गिलास दूध के साथ इसका सेवन करना चाहिए। यदि आपको अंदरूनी कमजोरी थोड़ी ज्यादा है तो इसके साथ आप आधा चम्मच अश्वगंधा का भी इस्तेमाल कर सकते है। इसका लगातार 15 दिन प्रयोग करने से गुप्त रोगों के साथ साथ शरीर की अंदर से भी कमजोरी दूर हो जाती है और शरीर अंदर से ताकतवर बन जाता है।

पथरी/स्टोन की समस्या में सफेद मूसली को इन्द्रायण की सूखी जड़ के साथ बराबर मात्रा (1-1 ग्राम) में पीसकर, इसे एक गिलास पानी में डालकर खूब मिलाएं और मरीज को प्रतिदिन सुबह पिलाएं। यह उपाय सात दिनों में ही अपना प्रभाव दिखाता है और पथरी गल जाती है।
महिलाओं के लिए मूसली अत्यधिक लाभकारी होती है। यह उम्र के असर को कम कर सुन्दरता बढ़ाने में भी मददगार साबित होती है। इसके अलावा अन्य नारी प्रमुख समस्याओं में भी इसका सेवन फायदेमंद होता है।

From Around the web