जानिए इन 10 तरह के रुद्राक्ष के लाभों के बारें में , पहने और शिव को करें खुश

सावन का महीना भगवान शिव की पूजा करने के लिए पवित्र महीने के रूप में जाना जाता है, शिव रुद्राक्ष को प्रसन्न करने के लिए भक्तों द्वारा किया जाता है क्योंकि रुद्राक्ष पहनने से बहुत लाभ होता है। नीचे बताए गए कुछ प्रकार के रुद्राक्ष पहने जाते हैं और इससे जुड़ी सबसे अच्छी चीजें हैं।
 
जानिए इन 10 तरह के रुद्राक्ष के लाभों के बारें में , पहने और शिव को करें खुश

सावन का महीना भगवान शिव की पूजा करने के लिए पवित्र महीने के रूप में जाना जाता है, शिव रुद्राक्ष को प्रसन्न करने के लिए भक्तों द्वारा किया जाता है क्योंकि रुद्राक्ष पहनने से बहुत लाभ होता है। नीचे बताए गए कुछ प्रकार के रुद्राक्ष पहने जाते हैं और इससे जुड़ी सबसे अच्छी चीजें हैं।

सरकारी नौकरियां यहाँ देख सकते हैं :-

सरकारी नौकरी करने के लिए बंपर मौका 8वीं 10वीं 12वीं पास कर सकते हैं आवेदन

जानिए इन 10 तरह के रुद्राक्ष के लाभों के बारें में , पहने और शिव को करें खुश
1. एक मुखी रुद्राक्ष –

एक व्यक्ति को एक मुखी रुद्राक्ष पहनने से कभी आर्थिक संकट नहीं होता है। पहनने का मंत्र- ओम ह्रीं (हरिम)  नमः शिवाय

2. दो मुखी रुद्राक्ष-

दो मुखी रुद्राक्ष पहनने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। पहनने का मंत्र-  ओम नमः

3. किशोर मुखी रुद्राक्ष-

जो व्यक्ति मुखी रुद्राक्ष पहनता है वह अच्छी शिक्षा प्राप्त करता है। पहनने के लिए मंत्र: ओम कलीम नम:

4 .चार मुखी रुद्राक्ष –

धर्म, उद्देश्य, कर्म और मानव जन्म से मुक्ति चार मुखी रुद्राक्ष के स्पर्श से प्राप्त होती है। पहनने का मंत्र- ओम् ह्रीं नमः

5. पंचमुखी रुद्राक्ष –

पंच मुखी रुद्राक्ष पहनने से अद्भुत मानसिक शक्ति मिलती है। पहनने का मंत्र- ओम ह्रीं नमः

6. छे मुख रुद्राक्ष –

चे मुख रुद्राक्ष पहनने से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। पहनने का मंत्र – ओम ह्रीं नमः

7. शतमुखी रुद्राक्ष –

शतमुखी रुद्राक्ष पहनने से एक गरीब व्यक्ति राजा बन जाता है। पहनने का मंत्र- ओम ह्रीं नम:

8. अष्टमुखी रुद्राक्ष –

अष्ट मुखी रुद्राक्ष पहनने से आयु में वृद्धि होती है। पहनने का मंत्र- ओम नमः

9. नौमुखी रुद्राक्ष –

नौ मुखी रुद्राक्ष पहनने से क्रोध पर नियंत्रण रखने में मदद मिलती है। पहनने का मंत्र – ओम ह्रीं नम:

10. दश मुखी रुद्राक्ष –

दश मुखी रुद्राक्ष पहनने से इंसान की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। पहनने का मंत्र- ओम ह्रीं नमः

जय महादेव लिखना न भूलें

From Around the web