सिद्ध वशीकरण मन्त्र-मुकदमा-कलह-शत्रु-नौकरी के लिए

मन्त्र का प्रयोग कोर्ट-कचहरी, मुकदमा-विवाद, आपसी कलह, शत्रु-वशीकरण, नौकरी-इण्टरव्यू, उच्च अधीकारियों से सम्पर्क करते समय करे। उक्त मन्त्र को पढ़ते हुए इस प्रकार जाँए कि मन्त्र की समाप्ति ठीक इच्छित व्यक्ति के सामने हो। बारा राखौ, बरैनी, मूँह म राखौं कालिका। चण्डी म राखौं मोहिनी, भुजा म राखौं जोहनी। आगू म राखौं सिलेमान, पाछे म
 
सिद्ध वशीकरण मन्त्र-मुकदमा-कलह-शत्रु-नौकरी के लिए
मन्त्र का प्रयोग कोर्ट-कचहरी, मुकदमा-विवाद, आपसी कलह, शत्रु-वशीकरण, नौकरी-इण्टरव्यू, उच्च अधीकारियों से सम्पर्क करते समय करे। उक्त मन्त्र को पढ़ते हुए इस प्रकार जाँए कि मन्त्र की समाप्ति ठीक इच्छित व्यक्ति के सामने हो।
 बारा राखौ, बरैनी, मूँह म राखौं कालिका।
चण्डी म राखौं मोहिनी, भुजा म राखौं जोहनी।
आगू म राखौं सिलेमान, पाछे म राखौं जमादार।
जाँघे म राखौं लोहा के झार,
पिण्डरी म राखौं सोखन वीर।
उल्टन काया, पुल्टन वीर, हाँक देत हनुमन्ता छुटे।
राजा राम के परे दोहाई, हनुमान के पीड़ा चौकी।
कीर करे बीट बिरा करे, मोहिनी-जोहिनी सातों बहिनी।
मोह देबे जोह देबे, चलत म परिहारिन मोहों।
मोहों बन के हाथी, बत्तीस मन्दिर के दरबार मोहों।
हाँक परे भिरहा मोहिनी के जाय, चेत सम्हार के। सत गुरु साहेब।”
विधि-
उक्त मन्त्र स्वयं सिद्ध है तथा एक सज्जन के द्वारा अनुभूत बतलाया गया है। फिर भी शुभ समय में 108 बार जपने से विशेष फलदायी होता है। नारियल, नींबू, अगर-बत्ती, सिन्दूर और गुड़ का भोग लगाकर 108 बार मन्त्र जपे।
Sab Kuch Gyan से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे…

From Around the web